श्री श्री रविशंकर की मुहिम, अयोध्या में मंदिर-मस्जिद दोनों बने

लखनऊ, अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण के लिए मध्यस्थता के लिए आगे आये ‘आर्ट ऑफ लिविंग’ के संस्थापक श्रीश्री रविशंकर ने बुधवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से उनके सरकारी आवास पर करीब आधे घंटे तक मुलाकात की. रामजन्म भूमि-बाबरी मस्जिद विवाद से जुड़े पक्षकारों से बातचीत करने के लिए श्रीश्री रविशंकर गुरुवार को अयोध्या जायेंगे. अयोध्या में श्रीश्री रविशंकर दिगंबर अखाड़ा, निर्मोही अखाड़ा, राष्ट्रीय मुस्लिम मंच, शिव सेना, हिंदू महासभा के अलावा विनय कटियार से भी मुलाकात करने की उम्मीद जतायी गयी है.

शिया पर्सनल लॉ बोर्ड के अध्यक्ष ने शिया वक्फ बोर्ड के प्रमुख वसीम रिजवी के रुख से ताल्लुक नहीं रखते. शिया पर्सनल लॉ बोर्ड के अध्यक्ष यासूब अब्बास ने कहा कि इस मामले में हम ऑल इंडिया पर्सनल लॉ बोर्ड के साथ हैं. हम कोर्ट के फैसले का इंतजार करेंगे. साथ ही उन्होंने कहा है कि अदालत के बाहर मध्यस्थता का हम स्वागत करते हैं.

लेकिन, शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड के प्रमुख वसीम रिजवी की मध्यस्थता स्वीकार नहीं है.श्रीश्री रविशंकर की पहल को हिंदू पक्षकार राम विलास वेदांती ने नकारते हुए कहा है कि श्रीश्री रविशंकर की मध्यस्थता किसी भी हालत में स्वीकार नहीं करेंगे. अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण के लिए राम जन्मभूमि न्यास और विश्व हिंदू परिषद ने आंदोलन किया. इसलिए बातचीत भी इन दोनों संगठनों को मिल कर करना चाहिए.