आसियान शिखर सम्मेलन में दक्षिणी चीन सागर का मुद्दा छाया रहेगा

मनीला।… आसियान शिखर सम्मेलन में दक्षिणी चीन सागर में चीन का विवादास्पद सैन्य विस्तार का मुद्दा छाए रहने की उम्मीद है, वहीं चीन के प्रधानमंत्री ली क्विंग ने रविवार को फिर से स्पष्ट किया कि बीजिंग अपने पड़ोसियों के साथ इस विवाद को द्विपक्षीय ढंग से सुलझाना चाहता है.

प्रमुख समाचार पत्र में प्रकाशित एक लेख में ली ने स्वीकार किया कि दक्षिणी चीन सागर के मुद्दे के कारण चीन और फिलीपीन के बीच द्विपक्षीय संबंधों को झटका लगा, लेकिन दोनों पक्षों के इसे बेहतर ढंग से संभालने के बाद अब संबंध सामान्य हो गए हैं. चीन के प्रधानमंत्री आसियान एवं पूर्वी एशिया शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेने के लिए मनीला आएंगे. उन्होंने कहा कि बीजिंग दक्षिण चीन सागर को ‘सहयोग और दोस्ती का सागर’ बनाने व इसके विकास की संभावनाएं तलाश करेगा.

ली ने इस समाचार पत्र में लिखा, ‘चीन समुद्री मुद्दों को उचित तरीके से सुलझाने के लिए फिलीपीन के साथ मिलकर काम करता रहेगा.’ उल्लेखनीय है चीन पूरे दक्षिण चीन सागर पर अपना दावा करता है, वहीं आसियान के सदस्य देश वियतनाम, फिलीपीन और ब्रुनेई सहित अन्य देश भी इसके कुछ हिस्सों पर अपने-अपने दावे पेश करते हैं, जिसके कारण लंबे समय से विवाद चल रहा है.