गुजरात चुनाव : तीन दिवसीय यात्रा में मंदिर-मंदिर माथा टेक रहे राहुल गांधी

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने अगले महीने गुजरात विधानसभा चुनाव से पहले उत्तरी गुजरात में तीन दिवसीय चुनाव प्रचार अभियान की शनिवार को शुरुआत की और राज्य के दो सबसे प्रसिद्ध अंबाजी मंदिर और अक्षरधाम मंदिर गए. रविवार को उनके इस दौरे का दूसरा दिन है.

कांग्रेस उपाध्यक्ष की अक्षरधाम दौरे से बीजेपी और विपक्षी कांग्रेस पार्टी के बीच वाक्युद्ध शुरू हो गया. सत्तारूढ़ पार्टी ने कहा कि उनका मंदिर दर्शन केवल वोट पाने के लिए है, जबकि कांग्रेस ने उस पर पलटवार करते हुए कहा कि बीजेपी के पास ‘भक्ति’ का एकाधिकार नहीं है.

राहुल गांधी शनिवार सुबह अहमदाबाद पहुंचने के बाद सीधे गांधीनगर स्थित अक्षरधाम मंदिर गए और भगवान स्वामीनारायण की पूजा की. इसके साथ ही उन्होंने यहां से अपने तीन दिवसीय दौरे का आरंभ किया, जिसमें वह छह जिलों का दौरा करेंगे.

अक्षरधाम मंदिर स्वामीनारायण पंथ से संबंधित है और पटेल समुदाय में इसके काफी अनुयायी हैं. कांग्रेस विधानसभा चुनाव के पहले इस समुदाय को आकर्षित करने का प्रयास कर रही है. राज्य में विधानसभा चुनाव दो चरण में नौ दिसंबर और 14 दिसंबर को होने हैं. राहुल रात में उत्तरी गुजरात के बनासकांठा जिले में स्थित प्रसिद्ध देवी अंबा मंदिर गए.

यहां उन्होंने पार्टी कार्यकर्ताओं और भक्तों की ‘जय अंबे मां’ के उच्चरण के बीच आरती और पूजा अर्चना की. बीजेपी ने उनकी आलोचना करते हुए कहा कि राहुल गांधी चुनाव के पहले हिंदू मंदिरों में जा रहे हैं ताकि वोट हासिल किए जा सकें.

उप मुख्यमंत्री नितिन पटेल ने कहा, ‘राहुल गांधी क्यों चुनावों के पहले मंदिरों की यात्रा कर रहे हैं. लोग उनके इरादे जानते हैं कि वे ऐसे हथकंडों से वोट हासिल करना चाहते हैं. उनका भक्ति के प्रति कोई झुकाव नहीं है क्योंकि अपने पहले की यात्राओं के दौरान राहुल गांधी कभी किसी मंदिर में नहीं गए.’

पटेल ने कहा, ‘हम चाहते हैं कि कांग्रेस अपनी छद्म धर्मनिरपेक्षता को छोड़ दे और मुख्यधारा हिन्दुत्व का सम्मान करे, लेकिन वोट हासिल करने के लिए उनके हथकंडे गुजरात में सफल नहीं होंगे.’ कांग्रेस ने पलटवार करते हुए कहा कि लोग बीजेपी को सबक सिखाएंगे, क्योंकि वह मंदिर जाने का विरोध कर रही है.

कांग्रेस नेता शक्तिसिंह गोहिल ने कहा, ‘क्या किसी के पास भक्ति का पेटेंट है? वे लोग मंदिर की यात्रा का विरोध कर रहे हैं. गुजरात के लोग उन्हें सबक सिखाएंगे.’ उन्होंने कहा, ‘राहुल गांधी जी हिंदू मंदिरों के अलावा जैन मंदिर और गुरूद्वारे भी गए हैं. हम धर्मनिरपेक्षता में विश्वास करते हैं.’