मशहूर उर्दू कवि अब्दुल कावि देसनवी की जयंती आज, गूगल ने डूडल मनाकर किया याद

बुधवार (1 नवंबर) को मशहूर उर्दू कवि और लेखक अब्दुल कावि का 87 वां जन्मदिन है. गूगल भी एक खास डूडल बनाकर  उर्दू के प्रसिद्ध लेखक, कवि और आलोचक अब्दुल कावी देसनावी का जन्मदिन मना रहा है. गूगल ने अपने डूडल के लोगो पर उनकी फोटो लगाई है.

साथ ही डूडल को उर्दू लिपि में डिजाइन करके देसनावी को कुछ अलग अंदाज में मुबारकबाद दी है.देसनवी की मुहम्मद इकबाल, मिर्जा गालिब और अब्दुल कलाम आजाद पर लिखी बिबिलोग्राफी काफी प्रसिद्ध हैं. वहीं अब्दुल कावि जावेद अख्तर और इक्बाल मसूद जैसे बड़े कवि, लेखक और गीतकार के मेंटर रहे हैं.

अब्दुल कावि का जन्म बिहार के नालंदा जिला के देसना में 1 नवंबर 1930 को हुआ था. देसनवी भोपाल के सेफिया कॉलेज में उर्दू विभाग के प्रभारी थे. अपने करियर के 50 सालों में उन्होंने हजारों कविताओं के साथ कई किताबें लिखी हैं। उनके पिता सैयद मोहम्मद सईद रजा थे जो उर्दू, अरबी और फारसी भाषाओं के प्रोफेसर थे. यही वजह रही कि अब्दुल कावी देसनवी को बचपन से ही भाषाओं का अच्छा ज्ञान रहा.

अब्दुल कावी देसनवी के यूं तो कई प्रसिद्ध कृतियां हैं, लेकिन ‘हयात-ए-अबुल कलाम आजाद’ का उर्दू साहित्य में अलग ही स्थान है. ये किताब स्वतंत्रता सेनानी मौलाना अबुल कलाम आजाद के जीवन पर लिखी गई थी, जिसे साल 2000 में प्रकाशित किया गया था. रिटायर होने के बाद भी कावि मध्य प्रदेश उर्दू अकादमी, ऑल इंडिया अंजुमन तरक्की उर्दू बोर्ड और बरकतुल्लाह यूनिवर्सिटी में प्रमुख पदों पर रहे.

देसनवी 2011 में वृद्ध अवस्था से जुड़ी बीमारियों के कारण उन्हें अस्पताल में भर्ती किया गया. 7 जुलाई 2011 को उनका निधन हो गया. उनकी कालजयी रचनाओं और उर्दू साहित्य में उनके योगदान के लिए उन्हें सदैव याद किया जाएगा.