देवबंद में आतंकियों के छिपे होने का शक, सभी पासपोर्ट धारकों की पुलिस करेगी जांच

उत्तरप्रदेश प्रदेश के गृह विभाग को सहारनपुर के देवबंद में आतंकियों के कनेक्शन के साथ ही बांग्लादेश के संदिग्ध निवासियों के बेहद सक्रिय होने का अंदेशा है. अब सहारनपुर पुलिस देवबंद क्षेत्र के घरों के हर पासपोर्ट धारक की एक बार फिर से जांच करेगी. एसएसपी बबलू कुमार इसको लेकर बेहद सक्रिय हैं.सहारनपुर के देवबंद में बीते दिनों मिले आतंकी कनेक्शन के बाद अब सहारनपुर पुलिस जाग गई है.

इसके तहत पुलिस ने अब देवबंद इलाके के सभी लोगों के पासपोर्टो की फिर से जांच करवाने का निर्णय लिया है. एसएसपी बबलू कुमार ने एलआईयू और स्थानीय पुलिस को आदेश जारी किया है कि देवबंद और उसके आस-पास के इलाके के सभी पासपोर्ट की जांच फिर से की जाए. एसएसपी का कहना है कि हाल ही में बांग्लादेश के कुछ संदिग्ध आतंकियों को एटीएस की टीम ने देवबंद और उसके आस-पास से गिरफ्तार किया था.

इन आतंकियों के पास से फर्जी पासपोर्ट और दूसरे दस्तावेज मिले थे. जिसको देखते हुए आदेश दिए गए है.बांग्लादेश के प्रतिबंधित आतंकी संगठन के कई सक्रिय सदस्यों को देवबंद और आसपास से एटीएस की टीम ने गिरफ्तार किया था. सहारनपुर पुलिस को एटीएस की इस कार्रवाई की भनक तक नहीं लगी थी. देवबंद में आतंकी का मिलना सहारनपुर पुलिस के खुफिया विभाग की बड़ी निष्क्रियता थी. इस मामले में पुलिस की बड़ी फजीहत हुई थी.

बांग्लादेशियों की पहचान में तेजी
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देशों के बाद प्रदेश पुलिस ने अवैध रूप से राज्य में रह रहे बांग्लादेशियों की पहचान करने का काम तेज कर दिया है. बांग्लादेशी नागरिकों को प्रदेश से बाहर निकालने के लिए एडीजी कानून एवं व्यवस्था ने पूरा रोडमैप तैयार कर अभियान की शुरुआत कर दी है. अवैध रूप से रह रहे बांग्लादेशियों की पहचान कर उन्हें बाहर निकालने का आदेश दिया गया था. देवबंद में एक मुहीम चलाई जा रही है.

देवबंद में लोगों के पासपोर्ट होंगे फिर से चेक
पिछले दिनों एक बांग्लादेशी युवक भारतीय पासपोर्ट के साथ पकड़ा गया था. इसके बाद इंटेलिजेंस एजेंसियां काफी सक्रिय हो गई हैं. आतंकी वारदातों के अंदेशे के बीच पुलिस ने बांग्लादेशियों को चिन्हित करने का काम शुरू कर दिया है.
दिग्ध आतंकी वारदातों को रोकने के लिए ये अभियान चलाया जा रहा है. इसमें देश के बाहरी तत्वों को चिन्हित करने का काम किया जायेगा. हर नागरिक का पासपोर्ट चेक किया जायेगा ताकि उसकी सही पहचान हो सके. देवबंद के इलाके में बांग्लादेशियों के अवैध रूप से रहने के कई मामले सामने आये हैं.