सूबे के पूंजी निवेश में तेजी लाई जाएः मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह

देहरादून, मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह ने सिडकुल बोर्ड के बैठक की अध्यक्षता करते हुए कहा कि प्रदेश में पूंजी निवेश को आकर्षित करने के लिए कार्य में तेजी लाने के आदेश दिए. लंबित परियोजनाओं के समयबद्ध निस्तारण के लिए टाइमफ्रेम बनायें. सोमवार को सचिवालय में सिडकुल बोर्ड की 43वीं बैठक में बताया गया कि अब तक 30 हजार करोड़ रूपये का पूंजी निवेश राज्य में हुआ है. बैठक में बताया गया कि सिडकुल ने सात औद्योगिक क्षेत्र विकसित किये हैं. अब तक 8708.9 एकड़ भूमि पर विकसित औद्योगिक क्षेत्र में छोटे-बड़े 2000 उद्योग स्थापित हुए हैं.

पंतनगर, हरिद्वार, सेलाकुई, कोटद्वार आईटी पार्क, सितारगंज फेज एक और दो, काशीपुर में सिडकुल द्वारा विकसित औद्योगिक क्षेत्रों में 1,60,718 लोगों को रोजगार के अवसर मिले हैं और 22,000 करोड़ रूपये का पूंजी निवेश हुआ है. बताया गया कि 2011-12 में उ0प्र0 के 16 औद्योगिक क्षेत्रों को सिडकुल को सुपुर्द किया गया. इसे सिडकुल द्वारा औद्योगिक इकाइयों के अनुरूप विकसित किया जा रहा है. 1,102.72 एकड़ भूमि पर विकसित इन औद्योगिक क्षेत्रों में 1,140 करोड़ रूपये का पूंजी निवेश आकर्षित किया गया है. इससे 15,250 लोगों को रोजगार के अवसर प्राप्त हुए हैं.

बताया गया कि सिडकुल के पास 931 करोड़ रूपये की औद्योगिक, 216 करोड़ रूपये की व्यावसायिक, 94 करोड़ रूपये की आवासीय और 202 करोड़ रूपये की संस्थागत भूमि उपलब्ध है. इसके अलावा 1002 एकड़ भूमि खुरपिया फार्म और 803 एकड़ भूमि नेपा लि. की मिली है. सिडकुुल के पास 913 करोड़ की 944 एकड़ भूमि पंतनगर, कोटद्वार, काशीपुर टेक्सटाइल पार्क, जसपुर टेक्सटाइल पार्क और भीमताल में उपलब्ध है. बताया गया कि उपलब्ध भूमि पर सिडकुल द्वारा औद्योगिक इकाइयों को आकर्षित करने का प्रयास किया जा रहा है. थाईलैंड, बेल्जियम, इटली, चीन का प्रतिनिधिमंडल पूंजी निवेश की संभावना की तलाश करने औद्योगिक क्षेत्रों का भ्रमण किया. दक्षिण कोरिया की कम्पनियों ने भी पूंजी निवेश की रूचि दिखाई है. वर्ष 2016-17 में सिडकुल ने 70 करोड़ रूपये की 40 इकाइयों को आकर्षित किया है.