पीएम की 37वीं ‘मन की बात’: जानिए खास बातें…

नई दिल्‍ली, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को देश की जनता से ‘मन की बात’ की. ‘मन की बात’ का यह 37वां एपिसोड था. इस दौरान उन्‍होंने जवाहरलाल नेहरू के जन्मदिन पर मनाए जाने वाले बालदिवस की बधाई दी. साथ ही इंदिरा गांधी, सरदार पटेल को याद किया.

प्रकृति संरक्षण का पर्व है छठ
कार्यक्रम की शुरुआत में छठ पर्व की महिमा का बखान करते हुए उन्होंने कहा कि यह पर्व प्रकृति संरक्षण का पर्व है.इसमें छठ से पहले घाटों की सफाई करते हैं. यह उगते और डूबते सूर्य की वंदना का पर्व है.

खादी की रिकॉर्ड बिक्री
उन्‍होंने बताया कि खादी और हैंडलूम में बिक्री में बढ़ोतरी हुई है. दिल्ली के एक खादी के स्टोर में बहुत बढ़ोतरी हुई है. खादी की बिक्री में करीब 90 फीसदी की बढ़ोतरी देखने को मिली है. खादी ग्रामीण विकास का साधन बनकर उभर रहा है. यह खादी फोर नेशन और खादी फोर फैशन के बाद खादी फोर ट्रांसफॉर्मेशन बन रहा है. धनतेरस के दिन दिल्‍ली के खादी स्‍टोर में 1 करोड़ रूपये से ऊपर की बिक्री हुई.

जवानों के साथ मनाई दिवाली
प्रधानमंत्री ने बताया, ‘मुझे दिवाली पर एक बार फिर सुरक्षाबलों के साथ त्योहार मनाने का मौका मिला. यह अविस्मरणीय रहा. जवानों के संघर्ष और समर्पण के लिए मैं उनका आदर करता हूं. हमारे सुरक्षाबल के जवान न सिर्फ सीमा पर बल्कि दुनियाभर में शांति के लिए काम कर रहे हैं.

महिला सुरक्षाबलों ने भी पूरी दुनिया में शांति स्थापित करने में मदद की
24 अक्टूबर को संयुक्त राष्ट्र दिवस मनाया गया. भारत शुरू से ही यूएन के साथ काम करता रहा है. भारत में नारी समानता में हमेशा जोर दिया है और यूएन डिक्लेरेशन ऑफ ह्यूमन राइट भी इसका प्रमाण है. 18000 से अधिक सुरक्षाबलों ने दुनियाभर में शांति स्थापित करने में अपनी सेवाएं दी हैं. यह पूरे विश्व में तीसरी सबसे बड़ी संख्या है. महिला सुरक्षाबलों ने भी पूरी दुनिया में शांति स्थापित करने में मदद की है. आपको गर्व होगा कि भारत की भूमिका 85 देशों को प्रशिक्षण देने का भी काम में भी है.

एशिया कप जीतने की बधाई
दस साल बाद भारत ने एशिया कप जीता. मैं पूरी हॉकी टीम को बधाई देता हूं. मैं शटलर किदांबी श्रीकांत को भी डेनमार्क ओपन जीतने और देश को गौरवान्वित करने के लिए बधाई देता हूं.

नानक जी ने पैदल ही 28 हजार किलोमीटर की यात्रा की
किले और धरोहरों की साफ सफाई और देखभाल की जिम्मेदारी हम सबकी है. आने वाले 4 नवंबर को गुरुनानक जयंती है. हम उन्हें याद करते हैं. नानक जी ने पैदल ही 28 हजार किलोमीटर की यात्रा की और लोगों को बराबरी का संदेश दिया. 2019 में हम गुरुनानक देव जी का 550वां प्रकाश पर्व मनाएंगे.

सरदार पटेल, नेहरू और इंदिरा को किया याद
31 अक्टूबर को श्रीमती इंदिरा गांधी जी इस दुनिया को छोड़कर चली गई. सरदार पटेल जी ने भारत को एक सूत्र में पिरोने की बागडोर संभाली. पटेल जी ने एक उद्देश्य निश्चित कर लिया और उसपर वह बढ़ते ही गए. उन्होंने कहा था कि जाति और पंथ का कोई भेद हमें रोक नहीं सकेगा. हम सभी को अपने देश को प्रेम करना चाहिए. मैं देश वासियों को शुभकामनएं देता हूं कि उनके सभी सपने साकार हों. 31 अक्टूबर को सरदार पटेल की जयंती है और इस दिन ‘रन फॉर यूनिटी’ का आयोजन होगा.