लश्कर-ए-तैयबा आतंकी फरहान अहमद मुरादाबाद से गिरफ्तार

मुरादाबाद से लश्कर-ए-तैयबा के आतंकी फरहान अहमद को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. पुलिस ने उसके पास से फर्जी राशन कार्ड, पैन कार्ड भी बरामद किये है. आतंकी साजिश रचने के आरोप में दिल्ली हाईकोर्ट ने इसे बरी करते हुए विदेश जाने पर रोक लगाई थी. इसके बावजूद वह फर्जी पासपोर्ट पर कुवैत गया था. जांच एजेंसियां उससे पूछताछ कर रही हैं. फरहान अहमद सिद्धार्थनगर का रहने वाला है.

आरोप है कि वह लश्कर का एक्टिव मेंबर है. वह मुरादाबाद में रह रहा था. यहां उसने फरहान अहमद अली के नाम से फर्जी पासपोर्ट और राशनकार्ड भी बनवा लिया. फर्जी पासपोर्ट के आधार पर वह कुवैत भी हो आया. ऐसा कहा जाता है कि उसका परिवार कुवैत में रहता है. जानकारी के मुताबिक, 2002 में गोधरा कांड के बाद फरहान कुवैत से अहमदाबाद बदला लेने के लिए आया था और करीब 15 दिन रहा. आरोप है कि इस दौरान वह अपने साथ लोगों को जोड़ना चाहता था.

इंटेलिजेंस ब्यूरो को उसकी जानकारी मिली. इसकी भनक लगते ही वह दिल्ली भाग गया. दिल्ली की स्पेशल सेल ने निजामुद्दीन से अरेस्ट किया. उसके पास से 4 किलो एक्सप्लोसिव, 2 डेटोनेटर, एक चाइनीज पिस्टल और 15 कारतूस बरामद हुए थे. 2007 में दिल्ली हाईकोर्ट से उसको जमानत मिल गई. इसके बाद वह फर्जी पासपोर्ट पर कुवैत चला गया. वापस आया तो सुरक्षा एजेंसियों ने उसे फिर से अरेस्ट कर लिया.

2009 में वह जमानत पर छूटा और मुरादाबाद आ गया. आतंकी फरहान ने आरटीओ से अलग-अलग तारीखों में फर्जी ड्राइविंग लाइसेंस बनवाया था. पहला लाइसेंस 18 अक्टूबर 2002 को बनवाया गया, जबकि मुरादाबाद से ही दूसरा लाइसेंस तीन फरवरी 2010 को जारी किया गया. दोनों लाइसेंस में नाम फरहान अहमद अली है, जबकि जन्म तारीख अलग-अलग थीं.