राष्ट्रगान के लिए राष्ट्रपति भवन में कार्यक्रम के समय में हुआ बदलाव

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का कहना है कि राष्ट्रपति भवन ने उनकी शिरकत वाले कार्यक्रमों के समय में कुछ बदलाव कर यह सुनिश्चित किया है कि राष्ट्रगान के दौरान अतिथियों की मौजूदगी बनी रहे.

बदले हुए कार्यक्रम के मुताबिक धन्यवाद प्रस्ताव राष्ट्रपति के संबोधन के पहले होगा, ताकि श्रोता राष्ट्रगान के दौरान मौजूद रहें.

केरल सरकार द्वारा उन्हें सम्मानित करने के लिए आयोजित नागरिक अभिनंदन में उन्होंने तिरुवनंतपुरम में कहा, ‘यह एक छोटा सा बदलाव है जिसे हमने विभिन्न हलकों से प्राप्त हुए सुझावों के आधार पर अपनाया है.’

उन्होंने कहा, ‘अमूमन, ऐसे कार्यक्रमों में धन्यवाद प्रस्ताव मुख्य अतिथि के संबोधन के बाद होता है. लेकिन मेरे तीन महीने के कार्यकाल में राष्ट्रपति भवन को कई सुझाव मिले.’ राष्ट्रपति ने कहा, ‘उन्होंने कहा कि ‘सर जब आप अपना संबोधन खत्म करते हैं, लोग खड़े हो जाते हैं और राष्ट्रगान की भी परवाह नहीं करते और धन्यवाद प्रस्ताव सुने बिना ही जाने की कोशिश करते हैं.’

उन्होंने कहा, ‘इस तरह हमारे लोग राष्ट्रगान के प्रति सम्मान नहीं दिखाते. इसलिए हमने फैसला किया…राष्ट्रपति के संबोधन के पहले धन्यवाद प्रस्ताव हमें करना चाहिए.’