‘मानहानि कानून का पत्रकारों को डराने-धमकाने के लिए हो रहा इस्तेमाल’

एडिटर्स गिल्ड ऑफ इंडिया ने मानहानि को अपराध की तरह मानने वाले कानून के कथित दुरुपयोग पर गहरी चिंता जताते हुए कहा कि इस तरह के प्रावधान का जनहित के मुद्दों पर लिखने वाले पत्रकारों को डराने धमकाने के लिए इस्तेमाल किया जा रहा है.

गिल्ड ने उल्लेख किया कि मानहानि से दीवानी अपराध के तौर पर निपटा जाना चाहिए. साथ ही कहा कि यह मानहानि को अपराध करार देने के सुप्रीम कोर्ट के हालिया फैसले पर ‘सम्मान से असहमति’ जताता है.

गिल्ड ने एक विज्ञप्ति में कहा, ‘एडिटर्स गिल्ड ऑफ इंडिया मानहानि को अपराध के तौर पर बताने वाले कानून के लगातार दुरुपयोग पर गहरी चिंता प्रकट करता है.’