अखिल गढ़वाल सभा द्वारा आयोजित कौथिग-2017 शुरू

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने अखिल गढ़वाल सभा द्वारा आयोजित कौथिग-2017 का दीप प्रज्जवलित कर शुभारंभ करते हुए

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने बुधवार को परेड ग्राउंड में अखिल गढ़वाल सभा द्वारा आयोजित कौथिग-2017 का दीप प्रज्जवलित कर शुभारंभ किया. अखिल गढ़वाल सभा को कौथिग-2017 के आयोजन के लिए बधाई देते हुए मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र ने कहा कि अखिल गढ़वाल सभा ने सभी पर्वतीय राज्यों को उत्तराखण्ड आमंत्रित कर एक सराहनीय कार्य किया है. अन्य राज्यों से आये प्रतिभागियों का स्वागत करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि हम सभी पर्वतीय राज्यों की भौगोलिक सांस्कृतिक पहचान एक समान है.

हमारी जैव विविधता भी समान है. मुख्यमंत्री ने आशा व्यक्त की कि आने वाले वर्षों में इस प्रकार के आयोजन होते रहेंगे. उन्होंने कहा कि कभी अन्य राज्यों के कलाकार हमारे यहां आएं कभी हम उनके यहां जाएं इस प्रकार से अन्य राज्यों की संस्कृति को भी जानने का मौका मिलेगा. उन्होंने कहा कि इससे हमारी संस्कृति का प्रचार-प्रसार भी होगा.

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि राज्य सरकार भी कोशिश कर रही है कि उत्तराखण्ड की संस्कृति को संरक्षण मिले. इसके लिए लघु उत्तराखण्ड के रूप में एक संस्कृति ग्राम बसाने के प्रयास चल रहे हैैं. उन्होंने कहा कि आप सभी इस संस्कृति ग्राम को बसाने में अपने सुझाव दे सकते हैं. उन्होंने कौथिग में लगाये गये स्टाल्स का अवलोकन भी किया. मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर अखिल गढ़वाल सभा के पूर्व अध्यक्ष स्व. ठाकुर वीर सिंह नेगी को भी श्रद्धांजलि अर्पित की.इस अवसर पर विधायक मदन लाल शाह भी उपस्थित थे.