Ind vs Nz second Oneday: आज टीम इंडिया के लिए ‘करो या मरो’ की स्थिति

गत रविवार को मेहमान कीवी टीम के खिलाफ पहले वनडे मैच में मिली चौंकाने वाली हार के बाद विराट कोहली की टीम इंडिया दूसरे वनडे में पहली बार  दबाव में दिख रही है. सीरीज का दूसरा वनडे मैच बुधवार को पुणे में खेला जाएगा. भारतीय टीम को तीन मैचों की सीरीज में बने रहने के न्यूजीलैंड टीम को इस मैच में हर हाल में हराना होगा. पिछली छह बाइलेटरल सीरीज जीत चुकी भारतीय टीम को अपनी धरती पर ऐसे हालात का सामना कम ही करना पड़ता है जब उसे सीरीज बचाने के लिये ‘करो या मरो’ का मुकाबला खेलना है. टीम इंडिया के ज्‍यादातर फैंस को उम्‍मीद नहीं थी कि न्यूजीलैंड टीम वानखेडे स्टेडियम पर पहले मैच में भारत को हरा देगी. चैम्पियंस ट्रॉफी के बाद पहला मैच खेल रही कीवी टीम ने हालांकि शानदार तरीके से ऐसा कर दिखाया.

पहले वनडे में रॉस टेलर और टॉम लाथम के बीच 200 रन की रिकॉर्ड साझेदारी के दम पर न्यूजीलैंड ने 281 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए जीत दर्ज की. उन्होंने स्पिनर कुलदीप यादव और युजवेंद्र चहल को बड़े आराम से खेला जबकि इससे पिछली सीरीज में ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाजों को इन दोनों स्पिनरों को खेलने में काफी दिक्कत आई थी.

दूसरी ओर, मेजबान टीम मुंबई में फॉर्म में नहीं दिखी. कप्‍तान विराट कोहली ने पिछले मैच में 31वां वनडे शतक जमाया लेकिन बाकी खिलाड़ियों से उन्हें सहयोग नहीं मिल सका. सलामी बल्लेबाज शिखर धवन और रोहित शर्मा को ट्रेंट बोल्ट ने पेवेलियन भेजा. अब इन दोनों को इस गेंदबाज की स्विंग और सटीकता का सामना करने के तरीके खोजने होंगे. भारतीय कप्तान अपनी लय बरकरार रखना चाहेंगे चूंकि बड़े स्कोर के लिए उनके बल्ले से रन निकलना जरूरी है. कोहली ने जनवरी में इस मैदान पर इंग्लैंड के खिलाफ मैच जिताऊ पारी खेली थी. चौथा नंबर टीम प्रबंधन के लिए चिंता का सबब बना हुआ है. इस क्रम पर 2015 वर्ल्‍डकप के बाद अब तक 11 बल्लेबाजों को आजमाया जा चुका है. केदार जाधव रविवार को चौथे नंबर पर उतरे लेकिन नाकाम रहे.

गेंदबाजी में चहल और यादव ने मिलकर 125 रन दे डाले और सिर्फ एक विकेट लिया. अब उम्मीद दोनों अपनी गलतियों को सुधारकर बेहतर प्रदर्शन करने उतरेंगे. उन्हें लाथम को स्वीप और रिवर्स स्वीप शॉट खेलने से भी रोकना होगा.
दूसरी ओर शानदार जीत के बाद न्यूजीलैंड के हौसले बुलंद होंगे. कप्तान केन विलियमसन हालांकि अभ्यास मैच और पहले वनडे में रन नहीं बना सके जो बड़ी पारी खेलना चाहेंगे. मार्टिन गुप्टिल और कोलिन मुनरो अच्छी शुरुआत को बड़ी पारियों में नहीं बदल सके थे और इस गलती को यहां सुधारना चाहेंगे. कीवी टीम मिशेल सेंटनेर के साथ ईश सोढ़ी के रूप में दूसरा स्पिनर उतार सकती है.