आरुषि-हेमराज मर्डर मामले में आया ये नया मोड़

15-16 मई, 2008 की रात हुए आरुषि-हेमराज मर्डर मामले में नया मोड़ आ गया है. इलाहाबाद हाईकोर्ट द्वारा दिए गए फैसले में आरुषि के पिता राजेश और मां नूपुर तलवार की रिहाई के बाद हेमराज का परिवार अब न्याय के लिए सुप्रीम कोर्ट जाएगा. खासकर हाईकोर्ट के फैसले के बाद हेमराज के परिवार ने सीबीआइ पर जांच में हेराफेरी का आरोप लगाया है. परिवार का कहना है कि उनके साथ न्याय नहीं किया गया.

हेमराज की पत्नी खुमकला की मानें तो उनके पास दिल्ली आने-जाने के पैसे नहीं हैं, लेकिन वह अपने पति हेमराज को न्याय दिलाने के लिए सुप्रीम कोर्ट जाएंगी. मरहूम हेमराज की पत्नी खुमकला के भाई अशोक कुमार ने बताया है कि तलवार दंपती के बरी हो जाने के बाद क्या सीबीआइ की कोई जिम्मेदारी नहीं बनती? बता दें कि अशोक कुमार पेश से इलेक्ट्रिशन हैं और परिवार की मदद के लिए इराक की अपनी नौकरी छोड़ घर लौट चुके हैं.

गौरतलब है कि हेमराज की पत्नी अपने गांव धारापानी में रहती हैं जो काठमांडु से 118 किमी दूर है. हेमराज की विधवा खुमकला बन्जादे ने टाइम्स ऑफ इंडिया से विडियो कॉन्फ्रेंसिंग पर बात की. 50 साल की खुमकला ने कहा, ‘हमारे पास दिल्ली से अपने गांव आने-जाने का पैसा नहीं है, लेकिन हम सुप्रीम कोर्ट जाएंगे.’ खुमकला ने कहा कि यह उनके पति हेमराज के लिए न्याय की लड़ाई है. तलवार दंपती पर रिहाई का फैसला सुनाते हुए इलाहाबाद हाई कोर्ट ने सबूतों से छेड़छाड़ और गवाहों को प्लांट करने के लिए सीबीआई की निंदा की थी.