ITBP जवानों के लिए खास चौकियां बनाने पर हो रहा विचार : राजनाथ सिंह

केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने मंगलवार को कहा कि सरकार भारत-चीन सीमा पर शून्य से नीचे के तापमान पर हिमालय की बुलंदियों पर पहरे दे रहे आईटीबीपी जवानों के लिए 50 ताप नियंत्रित चौकियां बनाने के प्रस्ताव पर विचार कर रही है.

राजनाथ ने भारत तिब्बत सीमा पुलिस (आईटीबीपी) के स्थापना दिवस पर आयोजित एक समारोह में बल के जवानों और अधिकारियों को संबोधित करते हुए बल की क्षमता बढ़ाने के लिए कई अन्य कदमों का एलान किया.

इन कदमों में अरुणाचल प्रदेश, उत्तराखंड और हिमाचल प्रदेश में 25 सीमा सड़कों का निर्माण शामिल है. भारत-चीन सीमा पर लद्दाख के कराकोरम दर्रे से लेकर अरुणाचल प्रदेश के जाचेप ला में 176 सीमा चौकियां हैं.

राजनाथ सिंह के अनुसार सरकार प्रस्तावित नई चौकियों में 20 डिग्री सेल्सियस तापमान बनाए रखने की प्रौद्योगिकी इस्तेमाल करने पर विचार कर रही है. ये चौकियां ज्यादा ऊंचाइयों वाले इलाकों में स्थित हैं जहां आईटीबीपी के जवान बर्फ की आंधियों और शून्य से भी कम तापमान का सामना करते हैं.

गृहमंत्री ने कहा ‘हम आपकी परिचालन एवं अवसंरचना क्षमताओं को बढ़ाने के लिए प्रतिबद्ध हैं. हाल ही में हमें बल के लिए 50 नई सीमा चौकियां बनाने का एक प्रस्ताव मिला है और हम उस पर काम कर रहे हैं.’ अतिरिक्त सीमा चौकियों की स्थापना का लक्ष्य यह सुनिश्चित करना है कि बेहद बर्फीली स्थितियों और ठंड में उनका परित्याग नहीं हो.

सरकार 9,000 फुट से अधिक ऊंचाई पर तैनात सैनिकों के लिए विशेष रूप से कम वजन वाले गर्म कपड़े और 3,488 किमी लंबी चीन-भारत सीमा के अत्यधिक ऊंचाई वाले इलाकों में गश्त के लिए बर्फ पर चलने वाले स्कूटरों का विस्तारित बेड़ा देने पर विचार कर रही है.

आईटीबीपी के जवान 9000 से ले कर 18,700 फुट तक की ऊंचाई तक पश्चिमी, मध्य और पूर्वी सेक्टरों पर सीमा की चौकसी कर रहे हैं.

उन्होंने कहा ‘हमने लद्दाख में एक मॉडल सीमा चौकी बनाई है, जिसमें तापमान को 20 डिग्री सेल्सियस तक बरकरार रखा जा सकता है. हम सिक्किम में तथा इस सीमा के पूर्वी हिस्से में ऐसी और सीमा चौकियां बनाएंगे.’