ताजमहल के अंदर पढ़ी शिव चालीसा, लिखना पड़ा माफीनामा

आगरा, उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ आगरा के दौरे पर होंगे वे 26 अक्टूबर को आगरा जाऐंगे, मगर उनके दौरे से पहले हिंदूवादी संगठन के कार्यकर्ताओं ने ताजमहल में शिव चालीसा का पाठ किया. यह देखते ही वहां कौतूहल शुरू हो गया. ताजमहल देखने आए विदेशी पर्यटक भी इस घटना को कैमरे में कैद करने लगे जैसे ही यह बात वहां तैनात एएसआई के कर्मियों को पता चली तो हड़कंप मच गया.

इसके बाद सीआईएसएफ के जवानों ने सभी कार्यकर्ताओं को पकड़ लिया गया.सीआईएसएफ ने इन सभी जवानों के मोबाइल जब्त कर लिए और उसमें बनाए गए वीडियो डिलीट कर दिए. इसे लेकर जवानों और कार्यकर्ताओं में नोकझोंक भी हुई. पुलिस ने इन लोगों से माफीनामा लिखवाने के बाद ही उन्हें छोड़ा.

इस मामले में जानकारी सामने आई है कि, हिंदूवादी संगठन हिंदू युवावाहिनी के अलीगढ़ महानगर अध्यक्ष भारत गोस्वामी ने मीडिया से चर्चा में कहा कि, हिंदूवादी सरकार में तेजोमहालय में पूजा से रोका गया है. सोमवार को शिव की पूजा की जाती है, इसलिए तेजोमहालय में शिव चालीस का पाठ किया. दूसरी ओर हिन्दू युवा वाहिनी के अलीगढ़ के महानगर अध्यक्ष भारत गोस्वामी ने कहा कि अधीक्षण पुरातत्वविद् आगरा, विक्रम भुवन से बात की गयी और उन्होंने बताया कि ताजमहल में हर किसी का मोबाइल तो चेक नहीं किया जाता. उक्त लोग मोबाइल में कुछ देख रहे थे.

इस दौरान सीआईएसएफ कर्मियों ने उन्हें देख लिया और उसी ने बताया कि, वे उक्त पाठ कर रहे हैं. बाद में इन लोगों द्वारा अपनी गलती स्वीकारने के बाद सीआईएसएफ ने उन्हें छोड़ दिया. इन लोगों के पास कोई किताब नहीं थी. इसके बाद भाजपा नेता विनय कटियार ने विश्व धरोहर ताजमहल को लेकर विवादित बयान दिया था. उन्होंने बयानबाजी को एक नया मोड़ देते हुए कहा था कि,ताजमहल तो शिव मंदिर तेजो महल है, जिसे शाहजहां ने मकबरे में तब्दील कर दिया