नही रही ‘ठुमरी की रानी’ गिरिजा देवी

प्रसिद्ध शास्त्रीय गायिका गिरिजा देवी का ह्दयघात की वजह से निधन हो गया है. उन्होंने 88 की उम्र में कोलकाता में आखिरी सांस ली. ठुमरी को लोकप्रिय बनाने में गिरिजा देवी का महत्वपूर्ण योगदान रहा. उन्हें ‘ठुमरी की रानी’ कहा जाता था.

शास्त्रीय गायन के क्षेत्र में योगदान के लिए उन्हें पद्म भूषण और पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया था. उन्हें अपने क्षेत्र में योगदान के लिए कई पुरस्कार मिले. गिरिजा देवी का जन्म 8 मई 1929 को बनारस में हुआ था. वो सेनिया और बनारस घरानों की एक प्रसिद्ध भारतीय शास्त्रीय गायिका के तौर पर जानी जाती रहेंगी. गिरिजा देवी ने अपने गायन की शुरुआत ऑल इंडिया रेडियो इलाहाबाद से की थी.

जानकारी के मुताबिक उनकी तबीयत कुछ दिनों से खराब चल रही थी. मंगलवार सुबह उन्हें कोलकाता के बीएम बिड़ला हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था. जहां सोमवार रात करीब 10 बजे उन्होंने दुनिया को अलविदा कह दिया. गिरिजा देवी के साथ संगीत के एक युग का अंत हो गया. गिरिजा देवी अपनी आवाज के जरिए हमारे दिलों में हमेशा जिंदा रहेंगी.