केरल हाईकोर्ट ने दिया क्रिकेटर श्रीसंत को बड़ा झटका, जारी रहेगा आजीवन प्रतिबंध

कोच्चि, केरल हाईकोर्ट के फैसले से क्रिकेटर एस श्रीसंत की उम्मीदों पर पानी फिर गया है. कोर्ट की दो सदस्यीय बेंच ने श्रीसंत पर लगाए गए आजीवन प्रतिबंध को बहाल कर दिया है. इसी साल अगस्त में हाईकोर्ट की एकल बेंच ने उन पर लगाए गए आजीवन प्रतिबंध को खत्म कर दिया था. श्रीसंत के कानूनी सलाहकारों का कहना है कि वे इस फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट जाएंगे.बीसीसीआई ने हाईकोर्ट की एकल बेंच के फैसले का चुनौती दी थी. अब इस फैसले के बाद श्रीसंत केरल की ओर रणजी में नहीं खेल पाएंगे. वह अभ्यास मैच में भी हिस्सेदारी नहीं ले सकते हैं.

दो सदस्यीय बेंच का नेतृत्व हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश नवनीति प्रसाद सिंह कर रहे थे. उन्होंने अपने फैसले में कहा कि कोर्ट बीसीसीआई द्वारा लगाए गए प्रतिबंध के खिलाफ न्यायिक पुनरीक्षण नहीं कर सकता है. लिहाजा बीसीसीआई की अपील सही है. और उन पर प्रतिबंध जारी रहेगा. केरल क्रिकेट एसोसिएशन के सचिव जयेश जॉर्ज ने कहा कि जब से श्रीसंत पर प्रतिबंध हटाने का फैसला किया गया था, वे उनका पूरा सहयोग कर रहे थे.

उल्लेखनीय है कि 2013 में इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के दौरान स्पॉट फिक्सिंग मामले में संलिप्त पाए जाने के बाद श्रीसंत पर आजीवन प्रतिबंध लगा दिया गया था. इस मामले में उन्हें मई, 2013 को दिल्ली की तिहाड़ जेल में भी रखा गया था. दिल्ली पुलिस ने फिक्सिंग के आरोप में श्रीसंत और उनके साथी खिलाड़ियों अजीत चांडीला और अंकीत चव्हाण के साथ गिरफ्तार किया था.