कूड़े का ढेर बनती जा रही है पुरानी गंगनहर

पुरानी गंगनहर इन दिनों कूड़ेदान बनती जा रही है। इसकी बड़ी वजह इसे बंद किया जाना है। स्थानीय नागरिकों ने कई बार इस बाबत जनप्रतिनिधियों और अधिकारियों से बात की है। इतना ही नहीं उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री और सिंचाई मंत्री से भी पत्र-व्यवहार किया गया है। इस नहर के संचालित होने के समय धनौरी लोगों के आकर्षण का केंद्र था लेकिन नई गंगनहर बनने के बाद इसकी अनदेखी हुई और अब यह कूड़ेदान में तब्दील होती जा रही है।

पिछले साल नई गंगनहर की मरम्मत के दौरान पुरानी गंगनहर को कुछ समय के लिए खोला गया लेकिन यह काफी नहीं रहा। ग्रामीणों ने तत्कालीन सरकार से नहर को चलाने की मांग की थी लेकिन वह पूरी नहीं हो पाई। अब नयी सरकार के गठन के बाद सिंचाई विभाग मंत्री एवं मुख्यमंत्री उत्तरप्रदेश को ज्वालापुर से लेकर रुड़की के मध्य पुरानी गंगनहर को चलाने को लेकर पत्राचार किया गया है।

वहीं उत्तर प्रदेश सिंचाई विभाग का कहना है कि गंगनगर की सफाई का काम चल रहा है। दिवाली तक सफाई के चलते इन दिनों गंगनहर पूरी तरह बंद है। जहां तक पुरानी गंगनहर को चलाने की बात है तो इस साल सफाई के दौरान अभी इसको खोला नहीं गया है। नई गंगनहर बनने के बाद इस पर लोगों की निर्भरता भी कम हो गई है। अगर इसे चलाना वाजिब लगेगा तो फिर इसे खोल दिया जाएगा।