दिल्ली : सुप्रीम कोर्ट ने पटाखों की बिक्री पर लगाया प्रतिबंध, लाखों लोगों की आजीविका प्रभावित

सुप्रीम कोर्ट की ओर से ‘दिल्ली-एनसीआर क्षेत्र में पटाखों की थोक और खुदरा बिक्री’ पर रोक लगाने संबंधी आदेश से पटाखा कारोबारियों में घोर निराशा है. उनका कहना है कि यह पहली बार होगा, जब दीवाली पर लोग पटाखे नहीं खरीद पाएंगे.

दिल्ली फायरक्रैकर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष अमित जैन ने कहा, ‘इस साल की दीवाली पर पटाखे बेचने पर लगी रोक पटाखा कारोबारियों के पेट पर लात मारने जैसा है. पटाखों की बिक्री पर लगी रोक 12 सितंबर को अस्थाई रूप से हटाए जाने के बाद हम लोगों का मानना था कि शायद अक्टूबर में दीवाली पर हमारे लाइसेंस नवीनीकृत कर दिए जाएंगे, लेकिन अदालत द्वारा उस आदेश (बिक्री पर अस्थाई रूप से लगी रोक हटाए जाने) को एक नवंबर से प्रभावी बनाने का निर्देश देने से लाखों लोगों की आजीविका पर संकट उत्पन्न हो गया है.’

उल्लेखनीय है कि राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में करीब पांच लाख लोग पटाखा कारोबार से प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष रूप से जुड़े हुए हैं. शीर्ष अदालत ने सोमवार को दिल्ली और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) में पटाखों की बिक्री पर उसके द्वारा लगाई गई रोक 31 अक्टूबर तक जारी रहने का निर्देश दिया है.

इस साल दीवाली 19 अक्टूबर को है और इस आदेश के प्रभावी रहने का मतलब है कि इस साल की दीवाली बिना पटाखों के मनाई जाएगी. कोर्ट ने पटाखों की बिक्री पर लगी रोक को अस्थायी रूप से हटाने और पटाखों की बिक्री की इजाजत देने वाला आदेश एक नवंबर से लागू होने का निर्देश दिया है.

फायरक्रैकर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष ने कहा, ‘यह पहली बार होगा, जब लोगों को दीवाली पर पटाखे नहीं मिलेंगे.’ उन्होंने कहा, ‘इस तरह से चोरी का एक रास्ता खोला गया है. लोग चोरी छिपे पटाखे खरीदेंगे और चलाएंगे. यह ज्यादा खराब स्थिति है और इसे किसी भी प्रकार से रोकना संभव नहीं होगा. पटाखों का नियमन किया जाना आवश्यक है, लेकिन इसमें इस कारोबार से जुड़े लोगों की आजीविका और पुरानी परंपरा के लिए लोगों की भावनाओं का ख्याल रखा जाना चाहिए.’

बीजेपी नेता की झुग्गियों के बच्चों में पटाखा बांटने की योजना
बीजेपी के एक नेता ने सोमवार को कहा कि वह झुग्गियों में रहने वाले बच्चों में पटाखे वितरित करेंगे. उन्होंने दावा किया कि इससे सुप्रीम कोर्ट के आदेश का उल्लंघन नहीं होगा.

दिल्ली बीजेपी के प्रवक्ता तजिंदर सिंह बग्गा ने कहा कि वह दिवाली के मौके पर हरिनगर विधानसभा क्षेत्र की झुग्गियों में रहने वालों बच्चों में पटाखे बांटेंगे. इस साल 19 अक्टूबर को दिवाली मनाई जाएगी.

उन्होंने कहा, ‘मेरी 50,000 रुपये के पटाखे खरीदकर हरिनगर के झुग्गियों में रहने वाले बच्चों में वितरित करने की योजना है ताकि वे दिवाली मना सकें.’ बग्गा ने कहा, ‘यह सुप्रीम कोर्ट के आदेश का उल्लंघन या अवमानना नहीं होगी, क्योंकि कोर्ट ने केवल पटाखों की बिक्री पर प्रतिबंध लगाया है. उसने पटाखे खरीदने और उसे जलाने पर प्रतिबंध नहीं लगाया है.’