अमेठी : ट्रिपल अटैक के बीच फसे राहुल गांधी

अमेठी, कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी पर मंगलवार को उनके संसदीय क्षेत्र अमेठी से बीजेपी ने ट्रिपल अटैक किया. खुद बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह, सूचना प्रसारण मंत्री स्मृति इरानी और यूपी के सीएम आदित्यनाथ योगी ने राहुल को ‘घर’ में घेरा और तीखा हमला बोला. शाह ने कहा कि मोदी से तीन साल का हिसाब मानने वाले राहुल गांधी को अमेठी में अपनी तीन पीढ़ियों का हिसाब देना चाहिए. वहीं स्मृति इरानी कहा कि राहुल के पास अमेठी की जनता के लिए वक्त नहीं है. अमेठी में जो भी विकास कार्य हुआ है वह बीजेपी के कारण हुआ है. योगी ने राहुल पर तंज कसते हुए कहा कि उन्हें अमेठी नहीं, इटली की याद आती है.

मैं अमेठी की दीदी बन गई: स्मृति
स्मृति इरानी ने कहा, ‘मैं अमेठी में बीजेपी की प्रतिनिधि बन कर आई और यहां के लोगों की दीदी बन गई. तीन साल पीपड़ी गांव के लोगों ने मेरा बहिष्कार कर दिया था. आज जब हमने पूछा तो उन्होंने कहा हम बार-बार सांसद के पास जाते रहे, लेकिन वे नहीं मिले. इसलिए हम 2014 लोकसभा चुनाव का बहिष्कार कर रहे हैं. हमारे खेत की जमीनकाटकर नदी में जा रही है. मैंने कहा भले ही राहुल जी के पास समय नहीं हो हम आपके साथ समय देंगे.’

इटली की याद आती है, अमेठी की नहीं: योगी
उत्तर प्रदेश के सीएम ने भी राहुल गांधी पर खूब जुबानी तीर चलाए. उन्होंने कहा, ‘उन्हें इटली की याद तो आती थी लेकिन अमेठी की याद नहीं आती थी. पहली बार उन्हें देखने का आपको सौभाग्य स्मृति जी के कारण ही मिला होगा. स्मृति जी ने एक महीने पहले ही यहां का कार्यक्रम बनाया था. इस बीच हमने देखा कि दिल्ली के एक शहजादे भी अमेठी आ रहे हैं. स्मृति जी के बहाने इन्हें अमेठी की याद तो आई. इनके अंदर भारत के प्रति प्रेम नहीं.’

‘विकास पर भाषण देने वाले ने अपने क्षेत्र का विकास नहीं किया’
2014 में लोकसभा चुनाव में अमेठी से बीजेपी उम्मीदवार स्मृति इरानी ने कहा कि अब यहां राहुल गांधी का जनाधार नहीं बचा. उन्होंने कहा, ‘मुखिया जी ने मुझसे कहा बेटी बहुत विश्वास कर लिया कांग्रेस का लेकिन अब आशीर्वाद देंगे वोट नहीं. वादे के मुताबिक चुनाव के बाद हम लौटे. तब अखिलेश जी की सरकार थी. हमने केंद्र सरकार की ओर से अखिलेश जी को निवेदन भेजा लेकिन उन्होंने समय नहीं दिया. जो आज विकास पर देशभर में भाषण देते हैं वे अपने ही क्षेत्र में विकास नहीं करा पाते.’

बीजेपी सरकार ने कोई भेदभाव नहीं किया
अमेठी के विकास के लिए बीजेपी सरकार ने कोई भेदभाव नहीं किया, इस पर जोर देते हुए स्मृति ने कहा, ‘यह लोकतंत्र की ताकत है कि विधानसभा चुनाव में बीजेपी की सरकार बनी. हमने केवल एक बार जाकर आग्रह किया कि इस कटान की समस्या से 50 हजार लोग प्रभावित होंगे. 7 साल में जो काम नहीं हुआ वह 6 महीने में योगी जी ने कर दिखाया. यूपी सरकार ने 15 करोड़ रुपये की मुहैया कराई है.’

राहुल गांधी पर विकास कार्यों की अनदेखी का आरोप लगाते हुए बीजेपी नेता ने कहा, ‘अनोखी अमेठी का सच यह भी है कि यहां 2011 में कलेक्टर ऑफिस की घोषणा की गई लेकिन दफ्तर नहीं बनाया गया. अमेठी से ऊंचाहार रेल लाइन का वादा नेहरू से राहुल तक ने किया लेकिन मोदी जी प्रधानमंत्री बने तो सर्वे कराया और फंड आवंटित कराया. आज यदि राहुल सुन रहे हैं तो कहूंगी आप दुनिया में जाकर विकास की बात करते हैं. गुजरात जाकर विकास का उपहास उड़ाते हैं.’

स्मृति ने कांग्रेस पर जमीन हड़पने का आरोप लगाते हुए कहा, ‘यह सम्राट साइकल के लिए आवंटित जमीन है. अमेठी के लोगों ने फैक्ट्री के लिए जमीन दी थी. जब यहां फैक्ट्री बंद हुई तो पहली बार यह देश को पता चला कि एक राजीव गांधी फाउंडेशन ने इस जमीन को ले लिया. राहुल का कब्जा जमीन से हटाया जाए. किसानों पर भाषण देने वाले राहुल ने किसानों की जमीन नहीं लौटाई है.’