159 घंटे ओवरटाइम करने से हुई महिला पत्रकार की मौत

टोक्यो|….. लगातार काम करने और छुट्टी नहीं मिलने के कारण एक महिला पत्रकार की मौत हो गई. ये चौंकाने वाला मामला जापान का है. जहां युवा महिला पत्रकार मिवा सादो एक निजी चैनल में पॉलिटिकल रिपोर्टर थी. एक महीने में उसे सिर्फ दो दिन की ही छुट्टी दी गई थी. इतना ही नहीं पूरे महीने में उसने करीब 159 घंटे ओवरटाइम भी किया.

बताया जा रहा है कि पत्रकार की मौत 2013 में हुई थी. लेकिन उनकी संस्था ने इसी हफ्ते उनके केस को सार्वजनिक किया है. मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक जापान नेशनल हेल्थ सर्विस की ओर से मामले में की गई जांच में मिवा सादो की मौत की वजह ओवर टाइम सामने आई है. रिपोर्ट में कहा गया कि 31 वर्षीय मिवा की मौत कारोशी यानी अधिक काम करने के चलते हुई है.

मिवा ने 30 दिन में सिर्फ दो दिन की छुट्टी ली थी. वो अपने चैनल की ओर से लोकल इलेक्शन कवर कर रही थी.इसके तीन दिन बाद ही उसकी हार्ट अटैक से मौत हो गई. चैनल के एक अधिकारी मासाहिको यामौची ने बताया कि मिवा की मौत उनकी संस्था की समस्याओं को उजागर करने वाली है.

इससे लेबर सिस्टम के बारे में पता चलता है और यह बात सामने आई है कि यहां कैसे चुनावों की कवरेज की जाती है. गौरतलब है कि इससे पहले भी जापान में ओवरटाइम के कारण एडवरटाइजिंग एजेंसी में काम करने वाले शख्स की मौत हो गई थी. मामला सामने आने के बाद जापान में वर्क कल्चर को बदलने की मांग की गई थी. एक सर्वे के मुताबिक जापान में 20 प्रतिशत वर्कफोर्स पर कारोशी के चलते मौत का खतरा है. यहां ज्यादातर लोग 80 घंटे से अधिक तक का ओवरटाइम करते हैं.