भारतीय अर्थव्यवस्था में गिरावट अस्थायी : विश्व बैंक

सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) में गिरावट से विपक्ष और अपनी ही पार्टी के कुछ नेताओं के निशाने पर आई मोदी सरकार को विश्व बैंक का साथ मिला है. लेकिन विश्व बैंक ने भारत की अर्थव्यवस्था पर बड़ा बयान दिया है. विश्व बैंक का कहना है कि आनेन वाले महीनों में फिर से पटरी पर आ जाएगी और एक बार फिर से रफ्तार पकड़ लेगी.

विश्व बैंक के अध्यक्ष जिम योंग किम ने कहा कि भारत की अर्थव्यवस्था में सुस्ती अस्थाई है, ऐसा जीएसटी की वजह से है, जीएसटी आने वाले समय में बड़ा सकारात्मक बदलाव लाएगी और भारतीय अर्थव्यवस्था को बड़ा लाभ पहुंचाएगी. योंग ने कहा कि पहले क्वार्टर में इसका ऐलान किया गया था, लेकिन हमे लगता है कि अर्थव्यवस्था में गिरावट अस्थाई तौर पर जीएसटी की वजह से है जोकि भारत की अर्थव्यवस्था को बड़ा लाभ पहुंचाएगी.

विश्व बैंक के अध्यक्ष ने ये सारी बात अंतर्राष्ट्रीय मोनेटरी फंड की वार्षिक बैठक से पहले पत्रकारों से बात करने के दौरान कही. विश्व बैंक की ओर से होने वाली इस बैठक में भारत की अगुवाई देश के वित्त मंत्री अरुण जेटली करेगे, उनकी अगुवाई में भारतीय दल अगले हफ्ते विश्व बैंक की बैठक में शिरकत करेगा.

दरअसल किम से जब सवाल पूछा गया कि भारत की अर्थव्यवस्था में गिरावट आई है और इसके लिए विपक्ष और तमाम आर्थिक मामलों के जानकारों ने जीएसटी और नोटबंदी को जिम्मेदार ठहराया है जिसके चलते भारत की जीडीपी 5.7 पर पहुंच गई है. जोकि पहले क्वार्टर में 6.1 थी और पिछले वर्ष इसी क्वार्टर में 7.9 थी, इस सवाल के जवाब में में किम ने कहा कि इस स्थिति से भारत बहुत जल्दी उबर जाएगा और एक बार फिर से भारत की जीडीपी पटरी पर आ जाएगी. उन्होंने कहा कि हम करीब से स्थिति पर नजर बनाए हुए हैं. प्रधानमत्री मोदी स्थिति को बेहतर बनाने के लिए काम कर रहे हैं, लिहाजा हमे लगता है कि ये सारे कदम स्थिति को बेहतर करने की ओर ले जा रहे हैं.