बताया खुद को और पापा को निर्दोष, आखिर सामने आई हनीप्रीत

डेरा सच्चा सौदा प्रमुख की दत्तक पुत्री हनीप्रीत एक ऐसी पहेली बन गई, जो सुलझने का नाम नहीं ले रही थी. पिछले 36 दिनों से 7 सूबों की पुलिस उसके पीछे पड़ी थी, लेकिन हनीप्रीत का कोई अता-पता नहीं था. ऐसा तब जबकि शहर-शहर उसके देखे जाने की खबरें आती रहीं, लेकिन जब तक पुलिस पहुंचती है, हनीप्रीत रफूचक्कर हो जाती. रेप केस में 20 साल की सजा काट रहे राम रहीम की हनीप्रीत को आजतक ने खोज निकाला है.

हनीप्रीत आखिरकार लंबे समय बाद सामने आ गई हैं. लंबे समय से फरार चल रहीं हनीप्रीत ने न्यूज चैनल आजतक को दिए इंटरव्यू में खुद को और राम रहीम को पूरी तरह निर्दोष बताया है. इस दौरान हनीप्रीत ने कहा, ‘मेरे और मेरे पापा के बीच पवित्र रिश्ता है.’

जिस हनीप्रीत को आपने दिखाया है, वो हनीप्रीत ऐसी नहीं है. उसे ऐसे दिखाया गया है कि उससे मैं खुद डरने लगी हूं. मैं अपनी मेंटल स्थिति बयां नहीं कर सकती हूं. मुझे देशद्रोही कहा गया है, जो बिल्कुल गलत है. अपने पापा के साथ एक बेटी कोर्ट में जाती है. ऐसा बिना परमिशन के संभव नहीं है.

एक लड़की इतनी फोर्स के बीच अकेले बिना परमिशन के कैसे जा सकती है. इसके बाद कहा गया कि मैं गलत आई हूं. सारे सबूत दुनिया के सामने हैं. ऐसे में मैं कहां दंगे में शामिल थी. मेरे खिलाफ किसी के पास क्या सबूत है.

हनीप्रीत ने कहा कि उनका और राम रहीम का रिश्ता बेहद पवित्र रिश्ता है. यह उतना ही पाक है, जितना बाप-बेटी का रिश्ता होता है. क्या बाप बेटी के सिर पर हाथ नहीं रख सकता? क्या बेटी अपने पिता से लाड़ नहीं कर सकती? इस दौरान जब उनके पूर्व पति के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, ‘मैं विश्वास गुप्ता के बारे में बात भी नहीं करना चाहती.’


इस दौरान जब पूछा गया कि क्या राम रहीम को फिल्मों में लाने की आइडिया उन्हीं का था, तो हनीप्रीत ने कहा, ‘इसमें मेरा कोई रोल नहीं था. मैं कभी भी ऐक्ट्रेस नहीं बनना चाहती थी. वह सिर्फ कैमरे के पीछे काम करना चाहती थी. लेकिन पापा ने मुझे काम करने को कहा इसलिए मैंने काम किया.’