इलाहाबाद में बसपा नेता की गोली मारकर हत्या, विरोध में आगजनी-तोडफ़ोड़

इलाहाबाद, बहुजन समाज पार्टी के नेता राजेश यादव की सोमवार देर रात इलाहाबाद विश्वविद्यालय के ताराचंद हास्टल में हत्या कर दी गई. वह अपने मित्र इलाहाबाद के राज नर्सिंग होम के मालिक डॉक्टर मुकुल के साथ किसी से मिलने हॉस्टल में गए थे.

बसपा नेता राजेश यादव भदोही के ज्ञानपुर से विधानसभा का चुनाव लड़ चुके हैं. पुलिस ने उनके शव को वहां से पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है. कर्नलगंज कोतवाली की पुलिस अब मामले की पड़ताल में लगी है. उनकी हत्या की सूचना मिलते ही समर्थक घर पर एकत्र हो गए. समर्थकों ने इंडियन प्रेस चौराहे पर जमकर हंगामा किया. चार दिन के अवकाश के बाद आज सरकारी कार्यालय के साथ स्कूल खुलने के कारण चौराहे पर हंगामा के कारण भयंकर जाम लगा है.

राजेश यादव के समर्थक तोडफ़ोड़ भी करने में लगे हैं. राजेश यादव के समर्थकों ने रोडवेज की एक बस को आग के हवाले किया है. इलाहाबाद में इस हत्या के बाद माहौल काफी तनावपूर्ण बन गया है. समर्थकों ने पुलिस पर पथराव किया.राजेश यादव अपने मित्र डॉक्टर मुकुल सिंह के साथ फार्चुनर से ताराचंद हॉस्टल गए थे. भदोही के दुगुना गांव निवासी राजेश यादव 2017 में ज्ञानपुर विधानसभा क्षेत्र से चुनाव भी लड़े थे.

वर्तमान में बसपा ज्ञानपुर विधानसभा क्षेत्र के प्रभारी भी थे. राजेश यादव कम्पनीबाग के पीछे हरितकुंज अपार्टमेंट में रहते थे. कल देर रात राज नर्सिंग होम के मालिक डॉक्टर मुकुल के साथ ताराचंद हॉस्टल में किसी से मिलने गए थे. बसपा नेता राजेश यादव इंजीनियर भी थे. रात में करीब तीन बजे किसी से हॉस्टल के बाहर विवाद हो गया. इसी दौरान उन पर हमला कर दिया गया. राजेश के पेट में गोली लगी और वह गंभीर रुप से जख्मी हो गए.

डॉक्टर मुकुल उन्हें जख्मी हालत में राज नर्सिंग होम ले गए जहां इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई. एसपी सिटी सिद्धार्थ शंकर मीणा ने बताया कि बसपा नेता की गाड़ी में भी कुछ खोखे मिले हैं. गाड़ी में पीछे से ईंट पत्थर भी मारे गए. फिलहाल कर्नलगंज पुलिस ने डेडबॉडी को पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया है.

भदोही जिले के रहने वाले राजेश यादव अपनी पत्नी मोनिका यादव और चार बच्चों के साथ इलाहाबाद में रहते थे. राजेश यादव पेशे से इंजीनियर थे. इससे पहले वे दुबई, मॉरिशस में नौकरी कर चुके थे.