राजघाट पर 1 दिन के सत्याग्रह पर बैठे अन्ना, कहा- ‘पूरे नहीं हुए वादे

सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे सोमवार सुबह महाराष्ट्र (पुणे) से दिल्ली पहुंचे. दिल्ली पहुंचकर अन्ना हजारे ने राजघाट स्थित महात्मा गांधी की समाधि पर जाकर उन्हें श्रद्धांजलि दी.

बता दें कि प्रसिद्ध गांधीवादी सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे गांधी दर्शन को मानते है और उपवास के जरिये कई लड़ाइयां लड़ चुके हैं.

बताया जा रहा है कि गांधी जयंती के मौके पर सोमवार को सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे दिल्ली के राजघाट पर एक दिन का सत्याग्रह करेंगे. वहीं, उन्होंने एएनआई से बातचीत में कहा-‘मैं यहां महात्मा गांधी को राजघाट पर श्रद्धांजलि देने आया हूं.’

इससे पहले पुणे में अन्ना हजारे ने कहा था कि देश महात्मा गांधी के सपने के रास्ते से भटक गया है, इसीलिए वह गांधी जयंती के मौके पर एक दिन का सत्याग्रह करेंगे.

बताया जा रहा है कि पिछले दिनों अन्ना हजारे ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लेटर लिखकर भ्रष्टाचार और किसानों की समस्याओं पर अपनी नाराजगी जाहिर की थी और आंदोलन करने की भी बात कही थी.

माना जा रहा है कि केंद्र सरकार की ओर से अनुकूल जवाब नहीं मिला तो अन्ना हजारे अगले साल की शुरुआत यानी जनवरी महीने में बड़ा आंदोलन शुरू कर सकते हैं.

अन्ना का पीएम मोदी को लिखा लेटर, जानें क्या उठाए मुद्दे

1. आंदोलन के छह साल बाद भी भ्रष्टाचार को रोकने वाले एक भी कानून पर अमल नहीं हो पाया.

2. लोकपाल और लोकायुक्त की नियुक्ति करने वाले और भ्रष्टाचार को रोकनेवाले सभी सशक्त बिलों पर सरकार सुस्ती दिखा रही है.

3. किसानों की समस्याओं को लेकर स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट पर भी अमल नहीं किया जा रहा है.

बताया जा रहा है कि केंद्र सरकार के इस रवैए से नाराज अन्ना हजारे ने लेटर में तमाम मसलों के बारे में लिखा था और अब कोई जवाब नहीं मिलने पर दिल्ली में आंदोलन करने की भी बात कही थी. गौरतलब है कि पत्र में अन्ना हजारे ने देश में लगातार किसानों की आत्महत्या का भी जिक्र किया है.

साथ ही लेटर में अन्ना ने राजनैतिक पार्टियों को सूचना के अधिकार के दायरे में लाने की मांग भी की है. अन्ना हजारे ने पत्र के जरिए कहा कि पिछले 3 साल में आपकी सरकार ने किसी पत्र का जवाब नहीं दिया. इसके लिए अब मैने दिल्ली में आंदोलन करने का निर्णय लिया है.