फलाहारी बाबा बोला- मैं नपुंसक हूं, गलत काम कर ही नहीं सकता

जयपुर, छत्तीसगढ़ की युवती से दुष्कर्म के आरोप में फंसा राजस्थान में अलवर के फलाहारी प्रोपन्नाचार्य कौशलेंद्र महाराज के मामले की जांच शुक्रवार को भी जारी रही. बाबा अस्पताल में ही भर्ती है. उधर, युवती के पिता ने बाबा पर अन्य महिलाओं के साथ भी गलत हरकत करने का आरोप लगाया है.

आरोप लगाने वाली युवती गुरुवार शाम परिजनों के साथ अलवर पहुंच गई थी. पुलिस ने उसके बयान लिए और आश्रम भी ले गई. उधर, छत्तीसगढ़ में बिलासपुर निवासी 21 साल की युवती के यौन शौषण के प्रयास के आरोपों से घिरे अलवर के कौशलेन्द्र प्रपन्नचार्य उर्फ फलहारी बाबा ने खुद को नपुंसक बताया है. पुलिस की प्रारम्भिक पूछताछ में बाबा ने कहा कि जब मै नपुंसक हूं तो गलत काम कर ही नहीं सकता. दावा किया कि तीन माह पूर्व गलत जड़ी-बूटी के सेवन से नपुंसक हो गया, इसका असर छह माह तक रहता है.

 

अब पुलिस बाबा का पोटेंसी टेस्ट कराने पर विचार कर रही है. इस टेस्ट से ही साबित हो सकेगा कि बाबा नपुंसक है या नहीं. उल्लेखनीय है कि आसाराम ने भी खुद को इसी तरह से नपुंसक बताया था, इस पर पुलिस ने उसका पोटेंसी टेस्ट करवाया था, इसकी रिपोर्ट में साफ हुआ था कि वह नपुंसक नहीं है. पुलिस द्वारा की गई प्रारम्भिक पूछताछ में बाबा को दोषी माना जा रहा है, लेकिन पुलिस गिरफ्तारी से पूर्व उसके खिलाफ ठोस सबूत जुटाने में जुटी है.

 

जिला पुलिस अधीक्षक राहुल प्रकाश ने बताया कि बाबा के कमरे से महिलाओं के जेवरात और कपड़े मिले है. कमरे से पीड़ित युवती का भी कुछ सामान जप्त किया गया. अरावली विहार थाना अधिकारी ने बताया कि बाबा से अभी पूछताछ की जा रही है. पुलिस सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार बाबा की किसी भी वक्त गिरफ्तारी हो सकती है. इधर बाबा की गिरफ्तारी की आशंका के चलते उसके समर्थक दो दिन से अलवर शहर में अरावली स्थित आश्रम में जुटे हैं.