मदरसों में भी रोज फहराएं तिरंगा, करें राष्ट्रगान: स्कूल शिक्षामंत्री

भोपाल, देश में तिरंगा झंडा और राष्ट्रगान पर विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है. अब मध्यप्रदेश के शिक्षा मंत्री ने इस संबंध में एक नया बयान देकर इस मुद्दे को फिर से हवा दी है. राज्य के शिक्षा मंत्री विजय शाह ने कहा है कि मदरसों में रोज तिरंगा फहराया जाए और राष्ट्रगान होना चाहिए.

उन्होंने शनिवार को एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा, ‘जैसे स्कूलों में रोज तिरंगा फहराया जाता है, मेरी गुजारिश है कि सारे मदरसों में रोज तिरंगा फहराया जाए और राष्ट्रगान हो. मैं समझता हूं कि इस पर किसी को आपत्ति भी नहीं होनी चाहिए.’ उन्होंने आगे कहा, मैं समझता हूं कि इसपे किसी को आपत्ति होना भी नहीं चाहिए और है भी नहीं.

गौरतलब है कि, इससे पहले उत्तर प्रदेश मदरसा एजुकेशन बोर्ड ने राज्य के सभी मदरसों को 15 अगस्त के दिन आयोजित होने वाले कार्यक्रमों की विडियो रिकॉर्डिंग करने का आदेश दिया था, साथ ही इस दिन उन्हें राष्ट्रगान और तिरंगा फाहराए जाने को अनिवार्य रुप से घोषित किया था. इसके बाद राज्य में इस पर विवाद शुरू हो गया था. करीब 150 मदरसों ने इस पर कड़ी आपत्ति जताते हुए घोषणा की थी कि वे स्वतंत्रता दिवस पर राष्ट्रगान नहीं गाएंगे और ना ही कोई विडियोग्राफी होगी.

जमात के महासचिव मौलाना शहाबुद्दीन रिजवी ने कहा था कि जश्न-ए-आजादी को धूमधाम से मनाया जाएगा लेकिन राष्ट्रगान गाने और समारोह की विडियोग्राफी कराने के आदेश का पालन नहीं किया जाएगा. उन्होंने कहा था कि जन-गण-मन में ‘अधिनायक’ शब्द गैरशरई है इसका इस्तेमाल नहीं किया जा सकता. उनका कहना था कि यह वर्ष 1911 में अंग्रेजों की शान में पढ़ा गया कसीदा है, लिहाजा इसे गाना शरई लिहाज से दुरुस्त नहीं है.