मेडिकल कॉलेज घोटालाः ओडिशा हाईकोर्ट के पूर्व न्यायाधीश समेत पांच गिरफ्तार

लखनऊ, सीबीआई ने गुरुवार को ओडिशा हाई कोर्ट के रिटायर्ड जज समेत पांच लोगों को गिरफ्तार कर लिया। आरोप है कि इन्होंने सुप्रीम कोर्ट की रोक के बावजूद प्राइवेट मेडिकल कॉलेजों को एमबीबीएस कोर्स में स्टूडेंट्स को प्रवेश देने की छूट दे दी थी.सीबीआई ने इस मामले में लखनऊ समेत 9 स्थानों पर तलाशी ली.

सीबीआई ने गोमतीनगर में एल्डिको ग्रीन स्थित प्रसाद ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूट के मालिक बीपी यादव के आवास और रिटायर्ड जज इशरत मसरूर कुद्दुसी के ठिकानों पर छापे मारे हैं और दस्तावेज बरामद किए हैं.मेडिकल ऐडमिशन घोटाले के मामले में एजेंसी ने जिन पांच लोगों को गिरफ्तार किया है, उनमें रिटायर्ड जज कुद्दुसी, लखनऊ में मेडिकल कॉलेज चलाने वाले प्रसाद एजुकेशनल ट्रस्ट के मालिक बीपी यादव, पलाश यादव, बिचौलिए विश्वनाथ अग्रवाल, भावना पांडे और मेरठ के वेंकटेश्वर मेडिकल कॉलेज के सुधीर गिरी के खिलाफ भ्रष्टाचार के आरोपों में केस दर्ज किया गया है.

एफआईआर के मुताबिक प्रसाद इंस्टीट्यूट ऑफ़ मेडिकल साइंस उन 46 कॉलेजों में से एक है, जिसे सरकार ने मानक पूरा न करने के मामले में ब्लैकलिस्ट कर रखा है. इन कॉलेजों में नए एडमिशन पर रोक लगी हुई है. इस मामले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी गई थी.

सीबीआई के मुताबिक पूर्व जज ने अपने संपर्कों के आधार पर सुप्रीम कोर्ट में केस को रफा-दफा कराने को कहा था. जिसके एवज में भारी राशि की मांग की गई थी. बता दें इस मामले में सीबीआई ने दिल्ली के एक बिचौलिए के पास से 1 करोड़ की राशि भी जब्त की है.