क्यूबा: रहस्मयी हेल्थ अटैक से 21 US राजनयिक बीमार, बंद हो सकता है दूतावास

न्‍यूयॉर्क|…. क्यूबा में अमेरिकी राजनयिकों के स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचाने वाली अनपेक्षित घटनाओं के बाद ट्रम्प प्रशासन हवाना में हाल ही में खोले गए अमेरिकी दूतावास को बंद करने पर विचार कर रहा है. अमेरिकी विदेश मंत्री रेक्स टिलरसन ने रविवार को इस बात की जानकारी दी. अमेरिकी दूतावास के कई कर्मियों की रहस्यमयी कारणों से सुनने की क्षमता स्थायी रूप से कमजोर हुई है.

बता दें कि पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा ने क्यूबा के साथ लगभग पचास साल के बाद कूटनीतिक संबंध स्थापित किये थे. उनके प्रयासों की वजह से ही 2015 में अमेरिका के दूतावास ने वहां काम करना शुरू किया. अमेरिका के मौजूदा राष्ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप ने ओबामा के कुछ फैसलों को वापस ले लिया है, लेकिन हवाना में दूतावास अभी भी काम कर रहा है. हालांकि अब लगता है कि यह दूतावास भी जल्‍द बंद कर दिया जाएगा.

अमेरिकी विदेश मंत्री रेक्स टिलरसन से जब इस बारे में पूछा गया, तो उन्‍होंने कहा, ‘देखिए, अभी हम इस पर विचार कर रहे हैं.’ यानि अभी तक दूतावास को बंद करने पर अंतिम निर्णय नहीं लिया गया है. हालांकि उन्‍होंने कहा, ‘यह एक बेहद गंभीर मुद्दा है. कुछ लोगों की वहां तबीयत खराब हुई, जिन्‍हें हम वापस अमेरिका ले आए हैं.’

क्‍यूबा में अमेरिकी दूतावास में काम कर रहे 21 लोगों की तबीयत खराब होने की पुष्टि की गई है. इनमें से कुछ की सुनने की क्षमता बहुत कम हो गई है. इसके अलावा कुछ को जी मिचलाना, सिरदर्द और कान में सीटी बजने की समस्‍या सामने आई है. वहीं कुछ लोगों की एकाग्रता या याददाश्‍त में कमी की बात भी सामने आ रही है.

जांचकर्ताओं की मानें तो स्वास्थ्य संबंधी समस्यायें उन सोनिक वेब मशीनों के कारण हो सकती हैं जो दूतावास कर्मियों के घरों में इस्तेमाल होती हैं. दरअसल, अजीब-सी आवाजें कुछ ही कमरों में सुनने को मिलीं. इसे सोनिक अटैक का नाम दिया जा रहा है. कनाडा की सरकार ने भी कहा है कि उसके कम से कम एक राजनयिक का रहस्यमयी लक्षणों के कारण इलाज किया गया है. हालांकि क्‍यूबा ने इन घटनाओं में किसी भी तरह से शामिल होने की बात से इनकार किया है.