राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद के मुख्य पक्षकार भास्कर दास का निधन

शनिवार को  निर्मोही अखाड़े के महंत भास्कर दास का निधन हो गया. वह 90 साल के थे. वह राम मंदिर केस के हिंदू पक्षकार थे. उन्हें 4 दिन पहले हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था.बताया जा रहा है कि भास्कर दास को यह तीसरा अटैक आया है. इससे पहले उन्हें साल 2003 और 2007 में भी अटैक आ चुका था.

भास्कर दास का जन्म साल 1929 में गोरखपुर के रानीडीह में हुआ था. इसके बाद साल 1946 में वह अयोध्या आ गए. साल 1949 में वह राम जन्मभूमि बनाम बाबरी मस्जिद केस से जुड़े.

वह साल 1966 तक राम चबूतरे के पुजारी रहे. इसके बाद वह बगल के मंदिर में रहे. साल 1986 में फैजाबाद नाका में हनुमान गढ़ी मंदिर के महंत बने.