उत्तरप्रदेश : बागपत यमुना में पलटी नाव, 20 लोगों की मौत, कई लापता

गुरुवार को उत्तरप्रदेश के बागपत से हरियाणा जा रहे किसान और मजदूरों से भरी नाव यमुना में पलट गई. यमुना में डूबने से 20 लोगों की मौत हो गई. काफी लोगों को निकालने के लिए बचाव अभियान चलाया जा रहा है. हादसे में घायल लोगों को बागपत के जिला अस्पताल और मेरठ अस्पताल में रिफर कर दिया गया हैं. बागपत अस्पताल में अफरा-तफरी का माहौल रहा. हर तरफ चीख पुकार मच गई. हादसे पर यूपी के सीएम ने दुख जताया है और 2 लाख रुपये के मुआवजे का ऐलान किया है.

जानकारी के मुताबिक जहां यह हादसा हुआ वह बागपत जिला मुख्यालय से करीब छह किलमीटर दूर कांठा गांव है. यूपी के इस गांव के लोगों की जमीन यमुना नदी से लगी हरियाणा की सीमा में हैं. वहां हर दिन किसान और उनके साथ मजदूर नाव से ही खेतों में काम करने जाते हैं. गुरुवार को भी सुबह करीब साढ़े छह बजे गांव के ही रिजवान की नाव में लोग जा रहे थे. बीच यमुना नदी में नाव का संतुलन बिगड़ गया और पलट गई. नाव में सवार करीब 62 लोग यमुना में डूब गए. इनमें महिलाएं भी शामिल हैं. आसपास के लोगों के शोर मचाने पर पुलिस प्रशासन को सूचा दी गई.

डीएम और एसएपी अमले के साथ मौके पर पहुंचे. मेडिकल टीम भी बुलाई गई. गाजियाबाद से एनडीआरएफ की टीम को बुलाया गया. बचाव अभियान शुरू कराया गया. हादसे के बाद ग्रामीणों ने खुद मोर्चा संभाला. उन्होंने कई लोगों को बाहर निकाला. डूबने से 20 लोगों की मौत हो चुकी थी. 10 शव बागपत जिला अस्पताल पहुंच गए थे. पुलिस ने गोताखोरों की टीम भी लगा दी है. बचाव और राहत कार्य तेजी से चल रहा है. एएसपी बागपत क कहना है कि पुलिस टीम ने 20 से ज्यादा डूबे लोगों को बाहर निकाला जिन्हें गंभीर हालत में अस्पताल भेजा गया. जिन लोगों के शव बागपत पहुंचे है उनमें तेजपाल, रामपाल, सुनील नीरज, इलियास मुनेश, राजो, जुबैदा, मोहसिना, शमा शामिल हैं. मरने वालों में चार महिलाएं हैं. डूबने से अचेत हुए काफी लोगों का अस्पताल में इलाज चल रहा है.

हादसे पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने संवेदना व्यक्त की है. उन्होंने दुर्घटना में मारे गए लोगों के परिजनों के आश्रितों को 2 लाख रुपये की आर्थिक मदद देने का ऐलान किया है. उन्होंने बागपत के जिलाधिकारी से तत्काल राहत दिलाने और घटना की जांच कराने के निर्देश दिए हैं.