सिरसा : दूसरे दिन डेरे की तलाशी में मिली पटाखा फैक्ट्री, हुई सील

सिरसा में गुरमीत राम रहीम के डेरे पर दूसरे दिन सर्च अभियान शुरू हो गया है, जिसके दौरान पुलिस ने डेरे परिसर के अंदर से विस्फोटक जब्त किए हैं. हरियाणा सरकार के जनसंपर्क विभाग के उपनिदेशक सतीश मिश्रा ने साथ ही बताया कि डेरा परिसर के भीतर एक अवैध पटाखा फैक्ट्री भी चलाई जा रही थी, जिसे सील कर दिया गया है. उन्होंने कहा कि दो ट्रकों में 80 से ज्यादा पेटियो में पटाखे भरे हुए है.

उन्होंने कहा कि डेरे के पास लाइसेंस है या नहीं इसकी जांच की जाएगी. वहीं डेरे के भीतर से नर-कंकालों को दबाए जाने की खबरों को लेकर जब मिश्रा से पूछा गया, तो उन्होंने कहा कि अभी इस बारे में कुछ भी नहीं बताया जा सकता है. इस मामले में जांच के लिए विशेषज्ञों की टीम बुलाई है. दरअसल सिरसा स्थित डेरा परिसर बहुत ही बड़ा है और वहां रविवार से ही खुदाई का काम शुरू हो पाएगा. खुद को स्वयंभू संत बताने वाले राम रहीम की जड़ें खंगालने में अच्छा खासा वक्त लग सकता है और तब तक लंबी-चौड़ी सर्च टीम भी अभियान में जुटी रहेगी.

डेरा में सर्च ऑप्रेशन पर सबसे अधिक चर्चा नरकंकालों की हो रही है. डेरा के 2 पूर्व साधुओं हंसराज व गुरदास सिंह यह आरोप लगा चुके हैं कि डेरा में अनेक लोगों को कत्ल कर खेतों में दबा दिया गया और बाद में वहां पेड़ लगा दिए गए. इसकी जांच के लिए ही जे.सी.बी. मशीनें व विशेष प्रकार के उपकरण जुटाए गए. चूंकि डेरा परिसर के खेत करीब साढ़े 750 एकड़ में फैले हैं. डेरे में 1000 से अधिक भवन हैं. ऐसे में फिलहाल जांच टीम प्राथमिक चरण में विभिन्न इमारतों में जांच कर रही है. सूत्रों का कहना है कि अभी खुदाई के कार्य में वक्त लग सकता है.

डेरा सच्चा सौदा में चले सर्च ऑप्रेशन के पहले दिन ही संदिग्ध सामान मिलने से विवाद बढ़ गया है. सर्च अभियान के तहत आज डेरा में काफी संख्या में वन्य प्राणी भी मिले. इनमें हिरण, मोर वन्य प्राणी शामिल हैं. वन्य प्राणी एक्ट के अनुसार कोई भी व्यक्ति वन्य प्राणियों को पालतू जानवर के तौर पर नहीं रख सकता. डेरा ने इस मामले में भी कानून की उल्लंघना की. इस उल्लंघना पर वन्य जीवों के लिए लम्बे समय से लड़ाई लड़ रहे हरियाणा के ही नरेश कादियान ने सीएम विंडो में शिकायत देकर कार्रवाई करने की गुहार लगाई है. कादियान ने हवाला दिया है कि वन्य प्राणी एक्ट 1972 के अंतर्गत डेरा सच्चा सौदा में वन्य प्राणी रखे जाने के संदर्भ में आज तक एक भी केस दर्ज नहीं किया गया है. जबकि आज सर्च ऑप्रेशन के दौरान मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार डेरा परिसर में वन्य प्राणी देखे गए.

खास बात यह है कि डेरा प्रकरण में लेक्सेस गाडियां चर्चा में हैं. गुरमीत सिंह के काफिले में लेक्सेस गाड़ियां हुआ करती थीं. जैड ब्लैक कलर की इन सभी गाड़ियों का नम्बर एक जैसा होता था. रोचक और हैरान करने वाली बात देखिए कि जिस दिन गुरमीत सिंह को सजा सुनाई जानी थी. उससे कुछ देर पहले ही सिरसा के गांव फूलकां के पास एक लेक्सेस गाड़ी को आग के हवाले कर दिया गया था. खास बात देखिए कि डेरा की तरफ से इस गाड़ी समेत तीन गाडिय़ों में लोग सवार होकर आए. प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार चंद मिनटों में गाड़ी जल गई. इस गाड़ी में अहम दस्तावेज हो सकते हैं, जिन्हें आग के हवाले कर दिया. तलाशी अभियान के दौरान भी सर्च टीम को डेरा से एक और बिना नम्बर की लेक्सेस गाड़ी मिली.

कपड़ों से लेकर जूतो तक अजब-गजब फैशन रखने वाला गुरमीत सिंह वन्य प्राणियों को भी रखने का शौकीन था. उसका शौक ऐसा था कि काफी साल पहले उसने कहीं से एक शेर का बच्चा मंगवाया. बाबा को अक्सर शेर के इस बच्चे के साथ देखा गया. बाद में शायद उन्हें इस बात का आभास हो गया कि शेर का बच्चा सार्वजनिक मंच पर साथ दिखने से वह विवादों में आ सकता है. इसलिए बाद में उस शेर के बच्चे को किसी ने नहीं देखा. इसके अलावा राम रहीम को मोर, हिरण, महंगे कुतेे भी रखने का शौक था.