जीवन को सुरक्षित करने के लिए हिमालय का संरक्षण जरूरी : मुख्यमंत्री

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने शनिवार को डूंगा हाउस देहरादून में हिमालय दिवस के अवसर पर हिमालय यूनिट मिशन द्वारा आयोजित कार्यक्रम में प्रतिभाग किया. अपने संबोधन में मुख्यमंत्री ने कहा कि जीवन को सुरक्षित करने के लिए हिमालय का संरक्षण करना जरूरी है.

उन्होंने कहा कि हमें लगभग 65 प्रतिशत खाद्यान्न की आपूर्ति गंगा बेसिन से होती है जबकि 65 प्रतिशत पानी हिमालय से ही मिलता है. हिमालय के संरक्षण के लिए सबको सामूहिक जिम्मेदारी निभानी होगी. हिमालय एवं पर्यावरण के संरक्षण के लिए किसी न किसी रूप में प्रत्येक व्यक्ति योगदान दे सकता है. पर्यावरणविद डॉ. अनिल जोशी ने कहा कि प्रत्येक व्यक्ति हिमालय से प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष रूप से जुड़ा है.

आज हमें हिमालय के बदलते स्वरूप पर चिंतन करने की आवश्यकता है. प्रकृति के विज्ञान को समझने की जरूरत है.
हिमालय का संरक्षण एवं संवर्द्धन देश हित का सवाल है. इसके लिए सबको सरकार के प्रयासों के साथ ही अपनी सामूहिक जिम्मेदारी लेकर हिमालय को बचाये रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभानी होगी.