आज से दो दिवसीय हिमालय दिवस, CM त्रिवेंद्र रावत ने दिया खास संदेश

देश में शनिवार 9 सितंबर और रविवार 10 सितंबर को हिमालय दिवस के रूप में मनाया जा रहा है. उत्तराखंड में इसे ‘हिमालय दिवस- सतत् पर्वतीय विकास सम्मेलन’ के रूप में मनाया जा रहा है। इसका आयोजन ‘दि सोलिटियर होटल, हरिद्वार बाईपास रोड, देहरादून’ में हो रहा है.

इस विषय में उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत का कहते हैं, ‘हिमालय एक व्यक्ति विशेष का नहीं, एक समाज का नहीं, एक राज्य विशेष का नहीं, ये पूरे देश और दुनिया का है. इसलिए आवश्यक हो जाता है, कि हम ‘हिमालय दिवस’ पर देश और दुनिया का ध्यान हिमालय की ओर आकर्षित करें. और सभी लोग संकल्प लें कि हम ‘हिमालय’ को बचाएंगे.’

हिमालय दिवस पर उत्तराखंड सरकार जिन क्षेत्रों खास जोर दे रही है वह हैं इस हिमालयी राज्य से पलायन कर चुके लोगों को वापस लाना और ऐसी तैयारी कर रहे लोगों को यहां रोकना. उत्तराखंड की कोशिश है ईको सिस्टम सर्विसेज एवं ग्रीन बोनस के तहत नई पद्वति के द्वारा उत्तराखंड के लिए योजना बनाना.

सतत पर्वतीय विकास हेतु विभिन्न प्रयास भी उत्तराखंड सरकार की योजना में हैं. जैविक अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देना भी सरकार की योजनाओं में है। जलवायु परिवर्तन से निपटने के लिए भी इस आयोजन का इस्तेमाल होगा. आपदाओं के लिहाज से उत्तराखंड काफी संवेदनशील है, ऐसे में इस दो दिवसीय कार्यक्रम में आपदा प्रतिरोधक्षमता के विकास पर भी फोकस होगा.