अब फोन के जरिए कंप्यूटर गढ़वाली-कुमाऊनी में सुनेगा शिकायत, 10 दिन में समाधान

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने बुधवार को समाधान पोर्टल हेतु स्मार्ट आईवीआर (इंटरेक्टिव वायस रिस्पान्स) प्रणाली के माध्यम से सार्वजनिक शिकायतों को फोन पर प्राप्त कर उनका निस्तारण किए जाने सम्बन्धी सेवा की शुरुआत की.

जन समस्याओं और सुझावों को सुगमता से सरकार तक पहुंचाने के लिए कोई भी व्यक्ति टोल फ्री नम्बर 1905 पर फोन कर अपनी शिकायत या सुझाव पंजीकृत करा सकता है. इसके लिए शिकायतकर्ता को अपना नाम, पता, मोबाइल नंबर एवं शिकायत का विवरण देना होगा.

अस्थायी राजधानी देहरादून में जारी एक सरकारी विज्ञप्ति के अनुसार, फोन से प्राप्त शिकायत एनआईसी के पोर्टल पर दर्ज हो जाएगी, जिसे बाद में संबंधित विभाग को भेज दिया जाएगा. विभाग की ओर से 10 दिन के अन्दर फीडबैक दिया जाएगा.

आईवीआर प्रणाली के तहत एक साथ 15 लोग शिकायत या सुझाव दर्ज करा सकते हैं. इसमें लोग स्थानीय भाषा में भी शिकायत दर्ज करा सकते हैं, जिसके लिए अनुवाद की व्यवस्था भी रहेगी.

मुख्यमंत्री ने कहा कि समाधान पोर्टल पर आईवीआर प्रणाली होने से जनसमस्याओं के निवारण में तेजी आएगी और इसके लिए सम्बन्धित विभागों की जिम्मेदारी तय रहेगी.