गौरक्षा के नाम पर हिंसा करने वालों पर हो सख्त कार्रवाई : सुप्रीमकोर्ट

देश में कथित गोरक्षकों की गुंडागर्दी थमने का नाम नहीं ले रही है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी कथित गोरक्षकों को चेताया है, लेकिन इसके बावजूद वारदातें हो रही हैं. अब सुप्रीम कोर्ट भी इन कथित गोरक्षकों पर सख्‍त होता नजर आ रहा है. कोर्ट ने केंद्र और राज्‍य सरकारों को आदेश दिया है कि कथित गोरक्षकों से बेहद सख्‍ती के साथ निपटा जाए.

सप्रीम कोर्ट ने केंद्र और राज्य सरकारों से कहा है कि कथित गोरक्षकों को कानून हाथ में लेने से रोकें. ऐसे क‍दम उठाए जाएं, जिससे कथित गोरक्षकों के हमले थमें. इसके साथ ही कथित गोरक्षकों की हिंसा रोकने के लिए सुप्रीम कोर्ट ने हर जिले में सीनियर पुलिस ऑफिसर तैनात करने का आदेश दिया है.

केंद्र का प्रतिनिधित्व करने वाले एडिशनल सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने सुप्रीम कोर्ट को बताया कि कानून इस प्रकार की अनियंत्रित घटनाओं पर लगाने के लिए हमारे पार पर्याप्‍त कानून हैं.

राजस्थान के सीमावर्ती जिले बाड़मेर के कालुड़ी गांव में मंगलवार को गौ तस्करी के शक में कथित गोरक्षकों ने एक ट्रक चालक और उसके चार साथियों के साथ मारपीट की. इनमें से एक ही हालत गंभीर बताई जा रही है. मंगलवार सुबह एक ट्रक आधा दर्जन गधे भरकर बांसवाड़ा जिला मुख्यालय की ओर जा रहा था, इसी बीच कालुड़ी गांव में कुछ युवकों ने ट्रक ड्राइवर को रोका और खुद को गोरक्षक बताते हुए मारपीट शुरू कर दी.