तेज रफ्तार बस ने स्कूली बच्चों से भरे टेंपो को रौंदा, ड्राइवर की मौत | 9 बच्चे घायल

सड़क किनारे खड़ी एक बस को ओवरटेक करने की कोशिश में सोमवार सुबह एक फैक्ट्री की बस सामने से आ रहे स्कूली बच्चों से भरे टेंपो से टकरा गई. बस की रफ्तार इतनी तेज थी कि टेंपो करीब 50 मीटर तक घिसटता चला गया.

घटना उधमसिंह नगर जिले में काशीपुर की है. हादसे में टेंपो ड्राइवर की मौत हो गई, जबकि नौ बच्चे घायल हो गए. घायलों को अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां से गंभीर रूप से घायल दो बच्चों को रेफर कर दिया गया. पुलिस ने दोनों वाहन कब्जे में ले लिए.

महुआखेड़ागंज से स्कूली बच्चों से भरा टेंपो (UP 18 AN 8654) सोमवार सुबह 7:30 बजे अलीगंज रोड स्थित डीएवी पब्लिक स्कूल जा रहा था. टेंपो को महुआखेड़ागंज निवासी मो. साजिद (30) पुत्र मो. उमर चला रहा था. सेंट मैरी स्कूल के सामने एक पेपर मिल की बस सवारी लेने के लिए रुकी.

उसके पीछे से एक फैक्ट्री के कर्मचारी ले जा रही बस (UA 06 PA 0757) अनियंत्रित गति से महुआखेड़ागंज की ओर जा रही थी. आगे बस खड़ी देख ड्राइवर ब्रेक नहीं लगा सका और बस अनियंत्रित होकर सामने से आ रहे टेंपो से टकरा गई.

टेंपो करीब 50 मीटर तक बस के साथ ही घिसटता चला गया और सेंट मैरी स्कूल की पार्किंग से टकराकर रुका. हादसे के बाद ड्राइवर बस छोड़कर भाग गया. टेंपो बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गया.

हादसे में टेंपो ड्राइवर मो. साजिद के अलावा महुआखेड़ागंज निवासी खुशबू (7) पुत्री राहुल कुमार, ग्राम बघेलेवाला निवासी अभय (15) पुत्र टीकाराम, महुआखेड़ागंज निवासी सेवी मलिक (6) पुत्री सादिक, अयान मलिक (10) पुत्र सादिक, नौबाज रजा (10) पुत्र जुनैद रजा, रोहित राज (10) पुत्र राहुल राज, प्रियांशु (15) पुत्र संजय, अयान (10) पुत्र नवी जान और प्रियांशु मिश्रा (7) पुत्र अजय मिश्रा घायल हो गए.

घायलों को राजकीय चिकित्सालय पहुंचाया गया, डॉक्टरों ने गंभीर रूप से घायल ड्राइवर मो. साजिद, खुशबू और अभय को निजी नर्सिंग होम रेफर कर दिया. वहां डॉक्टरों ने साजिद को मृत घोषित कर दिया, जबकि खुशबू और अभय की हालत चिंताजनक बनी हुई है. डॉक्टरों के मुताबिक खुशबू के सिर की हड्डी टूटकर अंदर धंस गई है और सिर में खून के थक्के जमा हो गए हैं. अभय का जबड़ा क्रैक हो गया है.

अलीगंज रोड स्थित सेंट मैरी स्कूल के सामने हुआ हादसा स्कूल परिसर में लगे सीसीटीवी में कैद हुआ है. फुटेज में साफ देखा जा रहा है कि टेंपो ड्राइवर अपनी साइड में सामान्य गति से जा रहा था। अचानक सामने से बस के गलत दिशा में बेकाबू गति से आने के कारण हादसा हुआ और टेंपो घिसटता चला गया. हादसे के बाद बस ड्राइवर खिड़की से कूदकर भागता भी दिखाई दिया.

हादसे में घायल बच्चों को सेंट मैरी स्कूल की बस से अस्पताल पहुंचाया गया. स्कूल के प्रबंधक रालेफ पिंटो ने बताया कि हादसे की सूचना पर स्कूल का स्टाफ और स्कूल बसों के ड्राइवर मदद के लिए दौड़ पड़े. सभी घायल बच्चों को टेंपो से निकालकर सेंट मैरी के ड्राइवर जसवीर और संजीव ने अस्पताल पहुंचाया. बाद में उनके द्वारा पुलिस को सूचित किया गया.

भीषण हादसे की सूचना से पुलिस प्रशासन में खलबली मच गई. संयुक्त मजिस्ट्रेट विनीत कुमार, एएसपी डॉ. जगदीश चंद्र, आईटीआई थाना प्रभारी जसवीर सिंह और कोतवाली के एसएसआई वीसी रमोला ने अस्पताल पहुंचकर घायलों का हाल-चाल जाना और दुर्घटना के बाबत जानकारी ली.

हादसे में जान गंवाने वाले महुआखेड़ागंज निवासी टेंपो चालक साजिद के घर में जब हादसे की सूचना पहुंची तो कोहराम मच गया. साजिद अपने पीछे पत्नी सायदा, बेटी रूमा (7) और बेटे अयान (5) को बेसहारा छोड़ गया है. वह टेंपो चलाकर परिवार का भरण पोषण कर रहा था. उसका बड़ा भाई शाहिद मजदूरी करता है, जबकि छोटा भाई राशिद भी टेंपो चलाता है. पहले से ही तंगहाली में जीवन व्यतीत कर रहे इस परिवार का सहारा छीन जाने से उनके सामने गंभीर संकट आ खड़ा हुआ है.