देहरादून : एटीएम क्लोनिंग अपराधियों से 32 एटीएम कार्ड सहित 02 स्कीमर बरामद

देहरादून, एटीएम क्लोनिंग के जरिये दूनवासियों की गाढ़ी कमाई पर सेंध लगाने वाले अपराधियों से पुलिस ने 32 एटीएम कार्ड, 02 स्कीमर, 01 डायरी, 01 वाहन स्कॉर्पियो, 01 वाहन आई-10, एटीएम मशीन खोलने के उपकरण व घटना के समय अभियुक्त द्वारा पहने गए कपड़े आदि शामिल थे.

विदित हो कि  विगत माह जनपद देहरादून में हुयी एटीएम क्लोनिंग की घटनाओं में थाना नेहरू कालोनी व अन्य थानों में पंजीकृत अभियोगों में नामजद अभियुक्तों रामबीर, जगमोहन तथा सुनील को पुलिस द्वारा 21 अगस्त 2017 को कोल्हापुर से गिरफ्तार किया गया था. उक्त अभियुक्तों से अभियोग से सम्बंधित वाहन, एटीएम क्लोनिंग से सम्बंधित उपकरणों व अन्य दस्तावेजों की बरामदगी हेतु 31 अगस्त 2017 की शाम से 04 दिन की पुलिस कस्टडी रिमांड पर लिया गया था. पुलिस रिमांड के दौरान अभियुक्तों से गहनता से पूछताछ अभियुक्तों की निशानदेही पर पुलिस टीम द्वारा अभियुक्त रामबीर के अर्बन स्टेट, जिला रोहतक, अभियुक्त सुनील के ग्राम- खराबड, जिला झज्जर तथा अभियुक्त जगमोहन के ग्राम- बरहाना जिला झज्जर स्थित आवासों से एटीएम क्लोनिंग से संबंधित दस्तावेज, उपकरण, वाहन व अन्य सामान बरामद किया गया. बरामद किए गए सामान में 32 एटीएम कार्ड, 02 स्कीमर, 01 डायरी, 01 वाहन स्कॉर्पियो, 01 वाहन आई-10, एटीएम मशीन खोलने के उपकरण व घटना के समय अभियुक्त द्वारा पहने गए कपड़े आदि शामिल थे. उक्त अभियुक्तों को बरामद सामान के साथ पुलिस टीम द्वारा न्यायालय को समक्ष पेश किया गया. जहाँ पर विवेचक निरीक्षक शंकर सिंह बिष्ट द्वारा 07 मामलों में उक्त अभियुक्तों को 14 दिन की न्यायिक अभिरक्षा में लेकर जिला कारागार भेजा गया.

वहीं दूसरी ओर देहरादून पुलिस की साईबर क्राईम सैल को वर्ष 2017 में माह जनवरी से अगस्त तक ऑन लाईन धोखाधडी से सम्बन्धित 68 प्रार्थना पत्र प्राप्त हुए, जिसमें साईबर सैल द्वारा 42 प्रार्थना पत्रों का निस्तारण करते हुए ऑन लाईन ठगी में गई 3,50,789 रुपये की धनराशि पीडित व्यक्तियों को वापस दिलवायी गयी, इसी प्रकार धोखाधडी से सम्बन्धित 26 प्रार्थना पत्र प्राप्त हुए जिसमें जांच के उपरान्त 20 प्रार्थना पत्रों का सफल निस्तारण करते हुए पीडित व्यक्तियों से ठगी गयी 10,04,000 रुपये की धनराशि वापस कराई गई. फेसबुक, ई-मेल, एवं अन्य सोशल नेटवर्किंग साईटों से सम्बन्धित 57 प्रकरण प्रार्थना पत्रों के माध्यम से साईबर सैल को प्राप्त हुए जिनमें से 40 प्रार्थना पत्रों पर तकनीकी रुप से जांच करते हुए आरोपी व्यक्ति को चिन्हित कर अग्रिम कार्यवाही हेतु सम्बन्धित थानों को भेजा गया, इसके अतिरिक्त फर्जी फोन कॉल से सम्बन्धित 56 प्रार्थना पत्र प्राप्त हुए जिनमें से 45 प्रार्थना पत्रों पर सर्विलांस की सहायता से तकनीकी साक्ष्य एकत्रित कर अग्रिम कार्यवाही हेतु सम्बन्धित थानो को भेजे गये. इस प्रकार वर्ष 2017 में माह जनवरी से माह अगस्त तक साईबर क्राईम सैल देहरादून को कुल 207 प्रार्थना पत्र प्राप्त किये जिनमें से 147 प्रार्थना पत्रों पर तकनीकी रुप से कार्यवाही करते हुए साक्ष्य एकत्रित कर अग्रिम कार्यवाही हेतु सम्बन्धित थानों को भेजे गये. इस दौरान पीडित व्यक्तियों की कुल 13,54,789 रुपये की धनराशि वापस कराई गयी.