अहमदाबाद को मिला ‘विश्व विरासत शहर’ का प्रमाण पत्र, देश का ऐसा पहला शहर बना

गुजरात की वाणिज्यिक राजधानी अहमदाबाद को यूनेस्को ने शुक्रवार को भारत के पहले ‘विश्व विरासत शहर’ का औपचारिक रूप से दर्जा दिया.

यूनेस्को की महानिदेशक इरीना बोकोवा ने अहमदाबाद को ‘विश्व विरासत शहर’ घोषित करते हुए गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी को गांधीनगर में प्रमाण पत्र सौंपा.

संयुक्त राष्ट्र एजेंसी ने जुलाई में पोलैंड में आयोजित एक बैठक में अहमदाबाद को भारत के पहले विश्व विरासत शहर के रूप में अंकित किया था. रूपाणी ने प्रमाण पत्र हासिल करने के बाद कहा कि यह गुजरात के लोगों के लिए गौरव की बात है.

राज्य सरकार द्वारा जारी एक आधिकारिक विज्ञप्ति में रूपाणी के हवाले से कहा गया, ‘अहमदाबाद को पहले यह दर्जा इसलिए नहीं मिला क्योंकि पूर्ववर्ती सरकारों ने इस ओर ध्यान नहीं दिया. हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2010 में (जब वह गुजरात के मुख्यमंत्री थे) यह सपना देखा. उनका शहर को विश्व विरासत शहर का दर्जा दिलाने का सपना अब साकार हो गया है.’