यूपी में बाढ़ से 104 की मौत, उत्तराखंड में भूस्खलन में एक की जान गई

उत्तर प्रदेश में बाढ़ का कहर जारी है और मरने वालों की संख्या गुरुवार तक बढ़कर 104 हो गई है. वहीं उत्तराखंड में भारी बारिश की वजह से भूस्खलन हो गया, जिससे एक व्यक्ति की मौत हो गई. असम और बिहार में बाढ़ की स्थिति में काफी सुधार हुआ है.

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में, भारी बारिश की वजह से पारा गिर गया और कई स्थानों पर जलभराव होने से यातायात व्यवस्था बुरी तरह चरमरा गई. सफदरजंग वेधशाला के मुताबिक, सुबह साढे आठ और शाम साढ़े पांच बजे के बीच 59 मिमी बारिश हुई है.

उत्तराखंड के चमोली जिले में भारी बारिश की वजह से हुए भूस्खलन के कारण गुरुवार तड़के एक व्यक्ति की मौत हो गई. उत्तर प्रदेश की बात करें तो यहां नेपाल से निकल रही नदियों में आई बाढ़ की वजह से 28 लाख लोग प्रभावित है.

बुधवार तक संकलित की गई रिपोर्ट के हवाले से राज्य के राहत आयुक्त के दफ्तर ने कहा कि राज्य के पूर्वी हिस्से में बनाए गए राहत शिविरों में करीब तीन लाख लोग आश्रय ले रहे हैं.

इसने कहा कि राज्य में मरने वालों की संख्या बढ़कर 104 हो गई है जहां 24 जिलों के 3,097 गांवों के 28 लाख से ज्यादा लोग प्रभावित हैं.

राज्य के बाढ़ प्रभावित जिलों के बुरी तरह से प्रभावित इलाकों में सेना के हेलीकॉप्टर, एनडीआरएफ, पीएसी (बाढ़) के कर्मी 24 घंटे राहत एवं बचाव के काम में लगे हुए हैं.

असम में सैलाब से हालत में सुधार हुआ है और पांच जिलों के 61,000 लोग अब भी प्रभावित हैं. असम में इस साल बाढ़ से संबंधित घटनाओं में 158 लोगों की मौत हुई है.

बिहार में बाढ़ से हालत में सुधार हुआ है और सैलाब की वजह किसी के मरने की नई रिपोर्ट नहीं है. प्रदेश में बाढ़ से अब तक 514 लोगों की जान जा चुकी है.

पश्चिम बंगाल के उप हिमालयी जिलों में मौसम विभाग ने अगले पांच दिन में भारी बारिश होने का अनुमान जताया है, जिससे निचले इलाकों में बाढ़ आने का खतरा है.