10 किलो का बम कंधे पर रखकर दौड़ा कॉन्सटेबल, बचाई बच्चों की जान

मध्य प्रदेश में सागर जिले के चितोरा गांव में एक पुलिस कॉस्टेबल ने बहादुरी की जबरदस्त मिसाल दी है. यहां एक कॉस्टेबल 400 स्कूली बच्चों की जान बचाने के लिए 10 किलो का बम लेकर 1 किलोमीटर तक दौड़ा. यह बम स्कूल कैंपस में पड़ा हुआ था. अभिषेक पटेल नाम के इस कॉस्टेबल ने अपनी जान की परवाह किए बगैर बिना किसी बम निरोधी ड्रेस के इस बम को उठाया और स्कूल से दूर खुले मैदान में ले जाकर रख दिया ताकि यदि बम फटे तो कोई जान-माल का नुकसान न हो.

चितोरा गांव के एक स्कूल में जब यह बम बरामद हुआ, उस वक्त स्कूल में 400 बच्चे मौजूद थे. अफरातफरी के माहौल के बीच करीब 10 किलो वजनी बम काफी देर तक वहीं पड़ा रहा. कोई भी उसके नजदीक जाने से इसलिए बच रहा था कि कहीं उसमें विस्फट न हो जाए. बाद में कॉन्स्टेबल अभिषेक पटेल ने हिम्मत दिखाते हुए गोले को उठाया और दौड़कर एक किलोमीटर दूर लेकर गया. स्कूल के पास ही आर्मी की फायरिंग रेंज है.

लेकिन ये बम वहां से स्कूल कैंपस में कैसे पहुंचा ये सवाल अब भी बना हुआ है. इसकी जांच जारी है. आर्मी ने बम को अपनी निगरानी में ले लिया है. पुलिस अधिकारियों ने जांबाज कॉस्टेबल अभिषेक पटेल को बहादुरी के लिये इनाम देने की घोषणा की है. बम को दूर लेकर जाने वाले कॉन्स्टेबल अभिषेक पटेल ने कहा, ‘मैं बम को जहां तक संभव हो सकता था, रिहायशी इलाके और स्कूल से काफी दूर ले गया, ताकि जान-माल की कोई हानि नहीं पहुंचे.’