भारत की रक्षा तैयारियों से समझौता नहीं किया जा सकता : अरुण जेटली

रक्षा मंत्री अरूण जेटली ने शनिवार को कहा कि राष्ट्र की रक्षा तैयारियों से हम कभी समझौता नहीं कर सकते हैं.

जेटली ने सार्वजनिक क्षेत्र की इकाइयों एचएएल, बीईएल और बीईएमएल के दौरे को संतोषजनक बताते हुए कहा कि ‘डिफेंस पब्लिक सेक्टर यूनिट’ (डीपीएसयू) और निजी क्षेत्र के उद्यम के अनुभव के साथ हमें अपनी विनिर्माण क्षमता बढ़ानी चाहिए.

उन्होंने कहा कि मौजूदा भू-राजनीतिक स्थिति में भारत संवदेनशील जगह पर है. अतीत में भी हमारे समक्ष कई खतरे रहे हैं इसलिए भारत तैयारियों पर कभी समझौता नहीं कर सकता.

हिन्दुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल) द्वारा डिजाइन किए गए 5. 8 टन श्रेणी के हल्के लड़ाकू हेलीकॉप्टर के उत्पादन का शुभारंभ करने के बाद जेटली ने यह कहा.

उन्होंने भारत में आगामी मेट्रो परियोजनाओं के लिए मेट्रो डिब्बों का उत्पादन बढ़ाने को लेकर आज बीईएमएल की तीसरी लाइन अल्ट्रा माडर्न मेट्रो मैनुफैक्चरिंग फैसिलिटी का भी शुभारंभ किया.

जेटली ने कहा कि केंद्र और आरबीआई ने डिजिटल लेन-देन की लागत घटाने के लिए विभिन्न कदम उठाए हैं. इससे लोगों को भुगतान के ऐसे माध्यम को अपनाने के लिए प्रोत्साहन मिलेगा.

उन्होंने दक्षिण कश्मीर के पुलवामा में एक पुलिस परिसर में आतंकी हमले में आठ सुरक्षाकर्मियों के मारे जाने पर शोक प्रकट किया. उन्होंने ट्वीट किया, ‘पुलवामा मुठभेड़ में शहीद हुए जम्मू कश्मीर पुलिस और सीआरपीएफ कर्मियों के परिवारों के साथ मेरी संवेदनाएं और दुआएं हैं.’