डेरा प्रमुख के काफिले से टकराई तीन कारें

एक गुमनाम पत्र पर लिए गए संज्ञान के करीब 15 साल बाद आज फैसले की घड़ी आ गई. पंचकूला में सीबीआइ की विशेष अदालत के न्यायाधीश जगदीप सिंह दोपहर करीब 2.30 बजे फैसला सुना सकते हैं . इस फैसले के दौरान डेरा प्रमुख संत गुरमीत राम रहीम सिंह अदालत में मौजूद रहेंगे. उन्होंने कोर्ट में अपनी पेशी को लेकर कई दिनों से बने संशय को खुद ही खत्म कर दिया है. डेरा प्रमुख सीबीआइ कोर्ट पंचकूला में पेश होने के लिए शुक्रवार सुबह सिरसा से 800 गाड़ियों के काफिले के साथ पंचकूला के लिए रवाना हुए.

सिरसा से काफिला कुछ ही दूर नरवाला पहुंचा ही था कि नरवाना के नजदीक उनके काफिले की तीन गाड़ियां टकरा गई. हालांकि इसमें कोई घायल नहीं हुआ. वहीं, उनका काफिला पहुंचने से पहले अंबाला में सड़क किनारे खड़े डेरा प्रेमी पुलिस से भिड़ गए. हालांकि माहौल शांतिपूर्ण है. डेरा प्रमुख 9.05 बजे पुलिस और अपने समर्थकों के काफिले के साथ पंचकूला के लिए निकले. डेरे के पीछे के गेट से गाड़ियों का काफिला गांव नेजिया खेड़ा से होते हुए निकला. डेरे के नज़दीक लगते तीन गांवों में भी कर्फ्यू लगा दिया गया था. ये गांव नेजिया खेड़ा, बाजेकां ओर बेगू हैं.

सड़क मार्ग पर हर तरफ सिर्फ और सिर्फ डेरामुखी का ही काफिला है. डेरा प्रेमी कई स्थानों पर सड़कों पर लेटे दिखे. राज्य में बस सेवाएं पहले ही बंद कर दी गई थी. राज्य में तरह से अघोषित कर्फ्यू के से हालात बने हुए हैं. डेरामुखी ने तमाम अटकलों को खारिज करते हुए करीब ढाई सौ किलोमीटर की दूरी तय कर सड़क मार्ग के जरिए ही कोर्ट में पेश होंगे. इस बीच, आइबी ने हिंसक झड़पों की आशंका व्यक्त की है. सिरसा में डेरा प्रेमी महिलाओं के हाथों में डंडे नजर आए.