पूर्वोत्तर की तरह उत्तराखंड में भी मरीजों के इलाज के लिए ‘उड़कर’ आएंगे डॉक्टर!

केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने मंगलवार को कहा कि पूर्वोत्तर राज्यों के लिए प्रस्तावित ‘एयर क्लीनिक’ की अवधारणा को उत्तराखंड जैसे अन्य पर्वतीय राज्यों में लागू करने पर भी विचार किया जा सकता है. इनमें रोगियों का इलाज करने के लिए डॉक्टर सुदूर इलाकों में हवाई मार्ग से जा सकते हैं.

पूर्वोत्तर क्षेत्र विकास मंत्री जितेंद्र सिंह ने दिल्ली में सीआईआई के स्वास्थ्य सम्मेलन को संबोधित करते हुए पूर्वोत्तर के दुर्गम इलाकों का और वहां एयर क्लीनिक के प्रारूप में हेलीकॉप्टर देखभाल सेवा शुरू करने के अपने प्रस्ताव का जिक्र किया.

उन्होंने कहा कि इस तरह की अवधारणा में विशेषज्ञ डॉक्टर ओपीडी संचालित करने के लिए दूरवर्ती इलाकों में हवाई मार्ग से जा सकते हैं और लौटते समय अपने साथ कुछ ऐसे रोगियों को ला सकते हैं जिन्हें भर्ती किया जाना जरूरी है.

जितेंद्र सिंह ने कहा, ‘यही अवधारणा जम्मू कश्मीर, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड जैसे पर्वतीय राज्यों में भी लागू हो सकती है.’ उन्होंने कहा कि पूर्वोत्तर क्षेत्र विकास मंत्रालय ने प्रस्ताव को लागू करने के लिए 250 करोड़ रुपये जारी कर दिए हैं.

मणिपुर की राज्यपाल नजमा हेपतुल्ला ने इस महीने की शुरुआत में कहा था कि ‘हवाई मार्ग से डॉक्टरों के पहुंचने’ का प्रस्ताव राज्य के पर्वतीय क्षेत्रों की जनता के लिए मददगार होगा.

प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) में राज्यमंत्री सिंह ने एक ‘मेक इन इंडिया’ स्वास्थ्य मॉड्यूल बनाने की भी वकालत की.