डोकलाम विवादः भारत ने किया इस देश का रुख, टेंशन में आया चीन

भारत और चीन में डोकलाम में सीमा विवाद को लेकर हो रही तनातनी के बीच भारत ब्रिक्स बैठक से पहले रूस से इस मुद्दे पर बातचीत कर रहा है. सूत्रों के मुताबिक दोनों देशों की सरकार इस मामले को लेकर संपर्क में है. अमेरिका का सीधे तौर पर समर्थन न करने के बाद भारत ने रूस से मदद की उम्मीद जताई है.

भारत पिछले 6 महीनों से मॉस्को से इस मुद्दे पर बातचीत कर रही है और चाहता है कि चीन को अपना विरोधी रवैया छोड़ने के लिए कहा जाए. एनएसजी सदस्यता मामले पर चीन को विरोध करने से रोकने के लिए भारत ने रूस का रुख किया था. एक अधिकारी के अनुसार रूस एक महत्वपूर्ण सामरिक साझेदार है और एक दोस्त मुल्क के साथ सुरक्षा मामलों पर चर्चा करना स्वाभाविक है.

भारत ने रूस को समझाने की कोशिश की कि चीन यथास्थिति तोड़ रहा है और भारत की सुरक्षा के लिए ये खतरनाक है। उल्लेखनीय है कि 3 सितंबर से 5 सितंबर के बीच चीन के श्यामन में ब्रिक्स सम्मेलन होना है. प्रधानमंत्री मोदी इस सम्मेलन में शामिल होने चीन जाएंगे. गौरतलब है कि भारत चाहता है कि रूस कूटनीतिक रास्तों से चीन को विवादित जमीन पर रोड बनाने से रोकने की कोशिश करे.