चेन्नई: AIADMK की फूट खत्म, एनडीए को एक और ताकतवर साथी मिला

चेन्नई, सोमवार को ऑल इंडिया अन्ना द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (एआईएडीएमके) के दोनों धड़ों का विलय हो गया है. एक धड़े का नेतृत्व मुख्यमंत्री के. पलनिसामी और दूसरे का पूर्व मुख्यमंत्री ओ. पन्नीरसेल्वम कर रहे थे. पन्नीरसेल्वम अब तमिलनाडु के डेप्युटी सीएम बनेंगे. दोनों धड़ों के नेताओं ने इस मौके पर कहा कि दोनों पक्षों की सारी मांगें पूरी हो गई हैं.

नॉर्थ इंडिया में विजय रथ पर सवार बीजेपी की निगाहें भी इस विलय पर लगी हुई थीं. विलय से एआईएडीएमके का दोनों गुट, खासकर पन्नीरसेल्वम गुट बीजेपी के संपर्क में था. एक होने से पहले एआईएडीएमके के ये दोनों गुट चुनाव चिह्न ‘दो पत्ती’ को पाने की जद्दोजहद में भी थे, जो कि अब इन्हें मिल जाने की उम्मीद है. ऐसा माना जा रहा है कि एआईएडीएमके की फूट खत्म हो जाने के बाद अब तमिलनाडु में भी एनडीए को एक ताकतवर साथी मिल गया है.

पन्नीरसेल्वम ने इस मौके पर पार्टी के कार्यकर्ताओं को भी संबोधित किया. पन्नीरसेल्वम ने कहा अम्मा (जयललिता) और एआईएडीएमके लिए यह कदम उठाया जा रहा है. विलय की औपचारिक घोषणा हो जाने के बाद अब तमिलनाडु मंत्रिमंडल में फेरबदल किया जाएगा. बताया जा रहा है कि पन्नीरसेल्वम कैंप को कैबिनेट में 3 मंत्रियों की जगह मिलेगी. राज्यपाल सी.वी. राव (जो तमिलनाडु का अतिरिक्त प्रभार संभालते हैं) शपथ-ग्रहण समारोह के लिए यहां मौजूद रह सकते हैं. ऐसा माना जा रहा है कि विलय की घोषणा हो जाने के बाद अब महासचिव वी.के. शशिकला के खिलाफ एक प्रस्ताव पारित हो सकता है. यहां उल्लेखनीय है कि पार्टी के नियमों के अनुसार, महासचिव को किसी समिति या पार्टी पदाधिकारियों के एक समूह द्वारा प्रस्ताव पारित कर पद से हटाया नहीं जा सकता. पार्टी सूत्रों के अनुसार, इस बाधा को दूर करने और पार्टी के मामलों के संचालन के लिए एक संचालन या सलाहकार समिति गठित की जाएगी, जिसमें दोनों धड़ों का प्रतिनिधित्व होगा. एआईएडीएमके के नेता ने बताया कि सलाहकार समिति के निर्णयों को जनरल काउंसिल से मंजूरी लेनी होगी.

पार्टी सूत्रों के अनुसार, दिवंगत मुख्यमंत्री जे. जयललिता को पार्टी की स्थाई महासचिव बनाए रखते हुए पार्टी महासचिव का पद समाप्त भी किया जा सकता है. ऐसा पार्टी के नियमों में संशोधन से ही किया जा सकेगा. पन्नीरसेल्वम गुट ने विलय के लिए जो एक महत्वपूर्ण शर्त रखी थी, उनमें शशिकला और उनके परिवार के सदस्यों को पार्टी से बर्खास्त करना भी शामिल है. पलनिसामी का धड़ा पहले ही शशिकला के भतीजे टी.टी.वी. दिनाकरन को पार्टी का उपमहासचिव बनाए जाने को ‘अनुचित, अस्वीकार्य व अवैध’ घोषित कर चुका है, जिसे दिनाकरन ने चुनौती दी है.

विलय के बाद अब पन्नीरसेल्वम-पलनिसामी के जॉइंट एआईएडीएमके को पार्टी का लोकप्रिय ‘दो पत्ती’ चुनाव चिह्न वापस मिल सकता है, जिसे निर्वाचन आयोग ने जब्त कर रखा है. एक नेता ने नाम न जाहिर करने की शर्त पर बताया, ‘जहां तक पार्टी मामलों का सवाल है, पन्नीरसेल्वम नंबर एक रहेंगे और पलनीस्वामी नंबर दो की स्थिति में रहेंगे.’