मुजफ्फरनगर : उत्कल एक्सप्रेस के 14 डिब्बे पटरी से उतरे, 23 की मौत, 40 घायल

उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर में शनिवार को उत्कल एक्सप्रेस के 5 डिब्बे पटरी से उतरे गए.ड़ी के 14 डिब्बे पटरी से उतर गए। हादसा इतना भयानक था कि कई डिब्बे एक-दूसरे के ऊपर चढ़ गए। इस हादसे में कम से कम 23 यात्रियों की मौत हो गई और 40 लोग घायल हो गए. एडीजी कानून व्यवस्था आनंद कुमार ने इसकी पुष्टि की है. बताया जा रहा है कि हादसा खतौली के ऊपरी गंगनहर के पास हुआ है.

उत्तर प्रदेश के पुलिस महानिदेशक कार्यालय ने एक विज्ञप्ति जारी कर कहा है, “23 लोगों की मौत हुई है और 40 लोग घायल हुए हैं.”

इससे पहले जारी विज्ञप्ति में घायलों की संख्या 400 बताई गई थी.

हादसा इतना भीषण था कि एक बोगी ट्रैक के किनारे स्थित तिलक राम इंटर कॉलेज में घुस गई. रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने घटना की जांच के आदेश दे दिए है. रेल राज्य मंत्री मनोज सिन्हा घटनास्थल पर पहुंच रहे है. पीएम नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर पीड़ितों के प्रति संवेदना व्यक्त की है.

 

एनडीआरएफ की टीम पहुंच गई है और पीएसी की 9 कंपनियों को भेजा जा रहा है. इसके अलावा यूपी एटीएस की टीम भी मौके पर पहुंच चुकी है. दुर्घटना शाम करीब पौने 6 बजे हुई. मौके पर केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान पहुंच गए हैं. एक टीवी चैनल से बातचीत में उन्होंने कहा कि मैं मौके पर हूं. 5 से 6 शव मैंने देखे हैं, मामूली घायलों को खतौली और गंभीर रूप से घायल लोगों को मेरठ के अस्पताल में भेजा जा रहा है. कटर से काटकर बोगियों से लोगों को निकालने की कोशिश की जा रही है. रेल राज्य मंत्री मनोज सिन्हा दिल्ली से रवाना हो चुके है.

इस बारे में जानकारी के लिए रेलवे के हेल्पलाइन नंबरों 94106 09434, 0121-2604977, 94544 55183, 9410609434, 0121-2604977 पर संपर्क किया जा सकता है. रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने ट्वीट कर कहा, ‘मैं इस घटना पर निजी तौर पर मेरी नजर है. वरिष्ठ अधिकारियों को तुरंत मौके पर पहुंचने को कहा है और राहत एवं बचाव कार्य को तेज करने का आदेश दिया है.’ सुरेश प्रभु ने एक अन्य ट्ववीट में लिखा, मेडिकल वैन मौके के लिए निकल चुकी हैं. राहत पहुंचाने के लिए हर संभव कदम उठाए जा रहे हैं.’ सुरेश प्रभु ने लिखा कि रेलवे बोर्ड के चेयरमैन को राहत एवं बचाव कार्य पर नजर रखने को कहा है। मौके पर मौजूद सिपाही ने बताया कि 3-4 लोगों के मारे जाने की बात कही जा रही है. हादसे में हुए नुकसान का पूरा आकलन नहीं हो पाया है.