देहरादून में भी ‘ब्लू व्हेल’ की दस्तक, पांचवीं के बच्चे को बमुश्किल बचाया गया

ब्लू व्हेल गेम

ऑनलाइन गेम ब्लू व्हेल ने अब उत्तराखंड की अस्थायी राजधानी देहरादून में भी दस्तक दे दी है. देहरादून के एक स्कूल में बच्चे ने इस खतरनाक गेम में पड़कर अपनी जान दांव पर लगा दी. ब्लू व्हेल गेम देशभर में तेजी से बच्चों को अपनी चपेट में ले रहा है. जिसके चलते भारत ही नहीं दुनियाभर में कई बच्चे आत्महत्या कर चुके हैं.

खबर ‌है कि देहरादून के एक स्कूल में प्रिंसिपल द्वारा कक्षा पांच के बच्चे को आत्महत्या करने से बचाया गया. प्रिसिंपल ने बताया कि कई दिनों से वह बच्चे के अजीब व्यवहार को नोटिस कर रहे थे.

ये बच्चा दूसरे बच्चों से अलग रहने लगा ‌था और किसी से ज्यादा बात भी नहीं कर रहा था. प्रिंसिपल द्वारा बच्चे के परिजनों को बुलाया गया.

इस कारण प्रिंसिपल इस पर नजर रख रहे थे. ब्लू व्हेल गेम से रेस्‍क्यू हो जाने के बाद बच्चे की काउंस‌लिंग की गई तो चौंकाने वाला सच सामने आया.

बच्चे ने बताया कि इस गेम के तहत उसे डेयर वाले गेम दिए जाते थे और उसे पूरा न करने पर खुद को खत्म करना होता था. इस गेम के तहत उसे अपने आप को नुकसान पहुंचाने का चैलेंज दिया गया था.

बता दें कि ब्लू व्हेल चैलेंज गैम, एक इंटरनेट गेम है, जिसमें डेयर की एक चेन होती है. जिन्हें पूरा करने के लिए खिलाड़ियों को 50 दिन का वक्त दिया जाता है. जिसकी अंतिम चुनौती में खिलाड़ी को आत्महत्या करने को कहा जाता है.

इस खेल से जुडे एक व्यक्ति बुदेइकिन को गिरफ्तार कर लिया गया है. उसे कई बच्चों को आत्महत्या के लिए उकसाने का दोषी माना गया है.