मानसरोवर यात्रियों का 17 वां दल रवाना

हल्द्वानी, इसे श्रद्धालुओं की आस्था के प्रति जोश कहे या शासन की मजबूरी, पिथौरागढ़ के मालपा में तबाही के भीषण ताडंव के बाद भी कैलाश मानसरोवर यात्रियों का 17 वां दल बुधवार को काठगोदाम से आगे की यात्रा के लिए रवाना कर दिया गया. इस दल में 10 महिलाएं व 30 पुरुष शामिल है.

दिल्ली से बुधवार यहां काठगोदाम टीआरसी पहुंचने पर कुमाऊं मडल विकास निगम के जीएम त्रिलोक मर्तोलिया ने कैलाश मानसरोवर यात्रियों का तिलक लगाकर स्वागत किया. यात्रियों के स्वागत में जहां प्रसिद्ध छोलिया नृत्य पेश किया गया, वही कुमाऊंनी व्यजंन भी श्रद्धालुओं को परोसे गये. इसे श्रृद्धालुओं का भोले के प्रति जोश ही कहा जाएगा कि पिथौरागढ़ के मालपा में भीषण तबाही की खबरों के बाद भी यात्रियों के चेहरों पर कोई भी खौफ या शिकन देखने को नहीं मिली.

मालपा हादसे को देखते हुए जब निगम के महाप्रबंधक त्रिलोक मर्तोलिया से यात्रा रूट पर बातचीत की गयी तो उन्होंने बताया कि यात्रियों की सुख सुविधा का पूरा ध्यान रखा गया है उन्होंने बताया कि जहां कही भी रास्ता टूटा हुआ है. वहां से अगले पड़ाव तक यात्रियों को ले जाने के लिए हैलीकाप्टर का इतंजाम शासन से किया गया है.