बिहार : बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में राहत कार्य जारी, बदला ट्रेनों का रूट

उत्तरी बिहार और सीमांचल के कई इलाकों में नदियों में उफान जारी है. नदियों का पानी तटीय इलाके में घुस गया है जिससे आम जन-जीवन प्रभावित हो गया है. नदियों का तटबंध टूटने से कई इलाके जलमग्न हो चुके हैं. बाढ़ प्रभावित इलाकों के लिए हेल्पलाइन नंबर जारी किए गए हैं, वहीं कई ट्रेनें कैंसिल की गई हैं तो कई ट्रेनों का रूट बदल दिया गया ह. इधर, कई इलाकों में लगातार हो रही बारिश की वजह से भी लोगों की परेशानी बढ़ गई है. बारिश और बाढ़ के पानी की वजह से नदियों में और उफान की संभावना बढ़ती जा रही है. अबतक बाढ़ की वजह से 12 लोगों के मौत की खबर है. लेकिन, दो लोगों की ही आधिकारिक पुष्टि हो पाई है.

सीमांचल के कई इलाकों का सड़क और रेल संपर्क टूट गया है. वहीं, बिहार सरकार बाढ़ प्रभावित इलाकों के लिए हरसंभव सहायता पहुंचाने के लिए जुट गई है. एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की टीमें प्रभावित इलाकों में पहुंच गई हैं और राहत बचाव का काम शुरू हो चुका है.

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार आज खुद बाढ़ प्रभावित जिलों का हवाई सर्वेक्षण करेंगे. वे 11 बजे पूर्णिया, अररिया, किशनगंज, कटिहार के लिए रवाना होंगे और राहत और बचाव के कार्यों का जायजा लेंगे. वहीं राज्य सरकार की ओर से बाढ़ प्रभावित इलाकों के लिए हेल्पलाइन नंबर जारी किया गया है. बाढ़ से पीड़ित लोग सहायता के लिए इन नंबरों पर फोन कर सकते हैं.

ये नंबर हैं- पूर्णिया: 06454241555

अररिया: 06453222209

किशनगंज: 06456223452, 06456223453, 06456223455

टोल फ्री नंबर: 1070

रविवार तक बीते 72 घंटे में हुई भारी बारिश की वजह से गंगा, कोसी और महानंदा उफान पर हैं. इससे किशनगंज, कटिहार, पूर्णिया और अररिया में बाढ़ की स्थिति गंभीर हो गई है. बारिश-बाढ़ की वजह से राज्य के 12 जिलों के साढ़े तीन लाख से ज्यादा लोग प्रभावित हैं. इन इलाकों में राहत और बचाव के लिए सरकार ने एनडीआरएफ और एसडीआरएफ के साथ सेना को भी भेजा गया है. एयरफोर्स की भी मदद मांगी गई है. इन जिलों के दर्जनों गांवों में बाढ़ का पानी घुस गया है. लोग परेशान हैं. कई इलाकों से लोग अपने घरों को छोड़ सुरक्षित स्थानों की ओर जा रहे हैं.

इन जिलों में लोग ज्यादा हैं प्रभावित

किशनगंज

रेलवे स्टेशन, बस स्टैंड, सरकारी दफ्तरों में घुसा पानी. कई इलाकों में बिजली की सप्लाई, कम्युनिकेशन, इंटरनेट सर्विस ठप.

कटिहार

प्रशासन ने अलर्ट जारी किया. कटिहार के आगे नहीं जा रही ट्रेनें, नॉर्थ-ईस्ट से देश का संपर्क टूटा.

पूर्णिया

अमौर और बैसा ब्लॉक की 40 पंचायतों की 10 लाख आबादी प्रभावित. अमौर में दो बहनें डूब गईं.

अररिया

कलेक्ट्रेट , थाना, अस्पताल, डीएम, एसडीओ, एसपी आवास में पानी, अररिया-जोगबनी रूट पर ट्रेन बंद.

सुपौल

कोसी के वाटर लेवल में लगातार बढ़ोत्तरी. 130 गांवों में पानी भरा.

मधेपुरा

आलमनगर, कुमारखंड, चौसा, मुरलीगंज के कई गांवों में बाढ़. 3 साल के बच्चे की डूबने से मौत.

सीतामढ़ी

बागमती नदी में उफान से सीतामढ़ी-रक्सौल रेल जोन पर ट्रेन सर्विस ठप.

बेतिया

प.चम्पारण जिले में बाढ़ का पानी अब लौरिया और चनपटिया में भी फैलने लगा है. रेल व सड़क संपर्क पूरी तरह प्रभावित है. सुगौली-नरकटियागंज-बगहा-गोरखपुर रेलखंड पर दूसरे दिन भी ट्रेनों का परिचालन ठप रहा. अधिकांश ट्रेनें रद कर दी गयी हैं.

इन ट्रेनों के मार्ग में किया गया है परिवर्तन

12557- मुजफ्फरपुर-आनंद विहार सप्तक्रांति एक्सप्रेस

19040- मुजफ्फरपुर- ब्रांद्रा एक्सप्रेस

15273- रक्सौल- दिल्ली सत्याग्रह एक्सप्रेस

15211-दरभंगा-अमृतसर जननायक एक्सप्रेस

19270-मुजफ्फरपुर- पोरबंदर एक्सप्रेस

रद्द की गई ट्रेनें

07006-रक्सौल- हैदराबाद विशेष गाड़ी

75230-रक्सौल-समस्तीपुर डेमू सवारी गाड़ी

75233/75274-रक्सौल-सीतमाढ़ी-रक्सौल डेमू सवारी गाड़ी

आंशिक समापन की गई ट्रेनें

14010- आनंद विहार-बापूधाम मोतिहारी चंपारण सत्याग्रह पनियहवा में

15215- मुजफ्फरपुर- नरकटियागंज बेतिया में समाप्त होकर पुन: 15216 गाड़ी बन मुजफ्फरपुर के प्रस्थान करेगी

75225- डेमू सवारी गाड़ी बगहा में समाप्त होकर 75230 गाड़ी बन समस्तीपुर के लिए प्रस्थान करेगी